?> सावधान ! कहीं आपको एक्सपायर बॉटल तो नहीं चढ़ रही बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़ गोरखपुर के बीआरडी मेडीकल कॉलेज में लापरवाही ने जहां 4"/>

सावधान ! कहीं आपको एक्सपायर बॉटल तो नहीं चढ़ रही

गोरखपुर के बीआरडी मेडीकल कॉलेज में लापरवाही ने जहां 48 बच्चों की जान ले ली तो वहीं जिला अस्पताल में भी घोर लापरवाही बरतते हुये मरीजों को एक्सपायरी डेट की बॉटलें चढ़ायी जा रही हैं। इसका ताजा मामला प्रकाश में आया है। भारत पुनरोत्थान अभियान प्रवाह के जिला संयोजक मनोज नायक ने अस्पताल में एक्सपायरी डेट की ग्लूकोज बॉटलों को मरीजों को चढ़ाते हुये लोगों की जान से खिलबाड़ करने का अस्पताल प्रशासन पर आरोप लगाया है।

गौरतलब है कि जिला अस्पताल सदैव अपने काले कारनामों के चलते सुर्खियों में बना रहता है। यहां अब नये-नये कारनामे सामने आ रहे हैं। ताजा मामला शुक्रवार का है। भारत पुनरोत्थान अभियान प्रवाह के जिला संयोजक मनोज नायक जिला अस्पताल पहुंचे, वहां उन्होंने अपने एक मरीज को चढ़वाने के लिए वार्ड से तीन ग्लूकोज 10प्रतिशत की बॉटल मांगी। जिस पर एक सफाई कर्मचारी ने उन्हें अलमारी से तीन बॉटल निकाल कर थमा दीं। बॉटल को देखने पर पता चला कि वह एक्सपायर हो चुकी हैं। आरोप है कि सफाई कर्मी द्वारा तीन बॉटल दो अलग-अलग वार्डों से निकाल कर दी गयी थीं। जिससे स्पष्ट होता है कि जिला अस्पताल में मरीजों को चढ़ाने वाली बॉटलें एक्सपायरी डेट की है। उन्होंने बताया कि इसकी बारीकी से जानकारी करने पर पता चला कि जिला अस्पताल स्थित ट्रामा सेन्टर में भी एक्सपायरी डेट निकल चुकी बॉटलें रखी हुई थीं, जिन्हें उपयोग में लाया जा रहा था। उन्होंने बताया कि यह लापरवाही प्रथम दृष्टया स्टोर रूम प्रभारी की।

आरोप लगाया कि स्टोर रूम प्रभारी अपने रसूख के चलते अकेले ही अस्पताल के कई पटलों का कार्यभार संभाल रहे हैं, जिस कारण यह लापरवाही होना उनके लिए कोई बड़ी बात नहीं होगी, लेकिन मरीजों की जान से खिलबाड़ कितने बड़े पैमाने पर किया जा रहा है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है। जिला संयोजक मनोज नायक ने सीएमएस व सम्बन्धित कर्मचारियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही किये जाने की मांग की है।



चर्चित खबरें