?> शहीदों की याद में लगा मेला, महिलाओं की उमडी भारी भीड बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़ कजली महोत्सव के तीसरे दिन गुरूवार को हवेली दरवाजा मे"/>

शहीदों की याद में लगा मेला, महिलाओं की उमडी भारी भीड

कजली महोत्सव के तीसरे दिन गुरूवार को हवेली दरवाजा में शहीदों की याद में गुदडी के मेले का आयोजन किया गया। दोपहर से ही मेले में भीड नजर आने लगी लेकिन जैसे जैसे शाम ढलती गई लोगों के पहुंचने का सिलसिला तेज हो गया। मेले में महिलाओं ने जहां घरेलू उपयोग के सामानों की जमकर खरीददारी की वही बच्चों ने झूलों आदि का लुफ्त उठाया। गुदडी मेला में पहुंच रही महिलाओं की सुरक्षा के लिये पुलिस ने कोई सुरक्षा इंतजाम नही किये। जिससे मेला परिसर में व रास्ते में भारी जाम की स्थिति उत्पन्न हो गई। जिससे मेला आई महिलाओं को भारी मुशीबतों का सामना करना पडा।  

शहीदी स्थल हवेली दरवाजा में प्रत्येक वर्ष की भांति कजली महोत्सव के तीसरे दिन मेले का आयोजन किया गया। जिसमें लोगों के पहुंचने का सिलसिला सुबह से ही शुरु हो गया। दर्जनों की संख्या में दुकानदारों द्वारा दुकानें सजाई गई वहीं झूला संचालकों ने एक सप्ताह पहले ही मेला स्थल पर अपने-अपने झूले लगा लिये थे। मेले में सर्वाधिक भीड महिलाओं की रही जहां उन्होेने घरेलू उपयोग के सामान की जमकर खरीददारी की। बच्चों ने झूलों का लुफ्त उठाते हुये खिलौने खरीदे। देर शाम तक मेला मेला प्रेमियों से खचाखच भरा रहा। इस बार मेला परिसर में प्रशासन की अनदेखी के कारण मेला प्रेमियों को भारी असुविधाओं का सामना करना पडा। पुलिस प्रशासन ने आने जाने वाले वाहनों पर रोक न लगाये जाने के कारण मेला क्षेत्र में भारी जाम की स्थिति उत्पत्न हो गई। जो कई घण्टे बाद पुलिस को सूचना देने के बाद किसी प्रकार पुलिस ने मेला क्षेत्र में लगें जाम को खुलवाया जा सका। इसके बाद पुलिस ने वहां आने जाने वाले वाहनों पर रोक लगाईं। 

वहीं गुदडी के मेले में दंगल का भी आयोजन किया गया। जिसमें दूर दराज से आये पहलवानों ने दांव पेंच दिखाये। दंगल देखने के लिये दर्शकों की भारी भीड जुटी रही। प्रत्येक अच्छी कुश्ती पर दर्शकों ने तालियां बजाकर पहलवानों का उत्साह वर्धन किया। आयोजक समिति द्वारा विजेता पहलवानों को पुरुस्कृत कर सम्मानित किया गया। गुदडी मेला पर सुरक्षा व्यवस्था की दृष्टि से प्रत्येक वर्ष बैरीकेटिंग लगा आने जाने वाले वाहनों पर रोक लगा दी जाती थी।

परन्तु इस बार पुलिस प्रशासन की इस लापरवाही का खामियाजा सैकडों मेला प्रेमियों को उठाना पडा। गुदडी मेले में पहुंच रही महिलाआंे के साथ छेडखानी जैसी घटनाओं से बचने के लिये गुदडी मेला में महिला पुलिस कर्मियों की भी कोई ड्यूटी नही लगाई गई। जिसका समाजसेवियों ने पुलिस प्रशासन के प्रंति नाराजगी जताई है। मेला परिसर में लगे भारी जाम को देखते हुये समाजसेवियों ने कोतवाली पुलिस को फोन किया। कोतवाली पुलिस ने सूचना पर पहुंच सुरक्षा व्यवस्था सम्भाली इसके बाद कही जाकर मेला परिसर मे लोगों को राहत मिली।



चर्चित खबरें