स्ट्रीट लाइटे न जलने से सडक़ पर अंधेरा पसरा रहता है। जिससे मा"/>

नगर निगमः आयेदिन खराब रहती हैं स्ट्रीट लाइटें

 

स्ट्रीट लाइटे न जलने से सडक़ पर अंधेरा पसरा रहता है। जिससे मार्ग पर दुर्घटना व वारदात होने का भी खतरा हमेशा रहता है। इस तरफ जिला प्रशासन और नगर निगम ध्यान नहीं दे रहा है। ग्वालियर रोड पर डेढ़ माह चौराहे पर ब्लड लाइटों से लगा खंभा टूट कर गिर गया। सभी लाइटे चकनाचूर हो गई, लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई है।

 पता नहीं किस कंपनी से नहर निगम का मार्ग प्रकाश के लिए अनुबंध किया गया कि शहर में मर्गों पर लगाई गई स्ट्रीट लाइटें आयेदिन खराब रहती हैें। नगर  निगम के कर्मचारी ठीक करके जाते है लेकिन वह दो दिन भी प्रकाश नहीं दे पाती और फिर अंधेरा फैल जाता है। बीकेडी से ग्वालियर क्रासिंग वाले मार्ग पर सिद्धेश्वर मंदिर तकलगी स्ट्रीट लाइटें आये दिन खराब रहती हैं। अभी कुछ दिनों पहले ही नगर निगम के कर्मचारियों ने लाइटों को ठीक किया था, लेकिन लाइटे मुश्किल से दो दिन ही जल पाई कि फिर खराब हो गईं। यह एक स्थान की स्थिति नहीं हैं, शहर में कई स्थानों पर लगाई गई स्ट्रीट लाइटे कराब पड़ी हैं।

वहीं, ग्वालियर रोड़ पर अंसल कालोनी के पास चौराहे पर काफी पहले नगर निगम ने एक खंभे पर पांच फ्लड लाइटें लागई थी। डेढ़ माह पूर्व खंभा नीचे से गलकर घराशायी हो गया। साथ की लाइटं जमीन पर गिरकर चकनाचूर हो गईं। इसकी शिकायत नगर निगम में की गई। यहां तक मेयर ने भी आश्वासन दिया था कि शीघ्र उसे ठीक कराया जाएगा। लेकिन अभी तक लाइटे चौराहे पर नहीं लग पाई हैं। जिससे व्यस्त मार्ग पर रात के समय अंधेरा पसरा रहता है तथा दुर्घटनाओं की आशंका बनी रहती है। विभाग जरा भी ध्यान नहीं दे रहा है।  

 



चर्चित खबरें