टीईटी संघर्ष मोर्चा ने दिया धरना किया प्रदर्शन


सरकार से जल्द नियुक्त करने की माँग की
उरई (जालौन) । टीईटी संघर्ष मोर्चा के बैनर तले शुक्रवार को जनपद के सैंकड़ों बीएड एवं टीईटी धारक अभ्यर्थियों ने बीएसए कार्यालय के परिसर में धरना दिया। इस मौके पर टीईटी पास अभ्यथर््िायों ने अपनी माँगों से सम्बन्धित मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन सिटी मैजिस्ट्रेट एनपी पाण्डेय को दिया।

धरने को सम्बोधित करते हुये टीईटी संघर्ष मोर्चा के जिलाध्यक्ष राहुल मिश्रा ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के आदेश से नये विज्ञापन पर अब भर्ती का रास्ता साफ हो गया है। सुप्रीम कोर्ट में बेसिक शिक्षा नियमावली 15वें व 16वें संशोधन को वैद्य करार दिया है। उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति ने स्पष्टï रूप से लिखा है कि राज्य सरकार को यह छूट है कि वह साल 7 दिसम्बर 2012 के विज्ञापन को आगे बढ़ा सकती है। मोर्चा के उपाध्यक्ष उपेन्द्र पटेल ने कहा कि हम सभी टीईटी धारक योग्य होते हुये भी पूर्ववर्ती सरकारों के भेदभाव रवैये के कारण एवं विगत पाँच वर्षों से न्यायालय में लम्बित विभिन्न मामलों के कारण बेरोजगारी का दंश झेल रहे हैं। जबकि पिछले छह वर्षों के संघर्ष में हमारे कई साथियों ने परेशान होकर आत्महत्या भी कर ली है। संगठन मंत्री अजब सिंह ने कहा कि टीईटी अभ्यर्थी पिछले छह वर्षों से शोषण का शिकार हो रहे हैं।

जिसके चलते हम सब मानसिक रूप से टूट चुके हैं। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार उनकी माँगे नहीं मानती है तब तक जनपद स्तरीय धरना प्रदर्शन जारी रहेंगे और 10 अगस्त से राजधानी लखनऊ में वेमियादी आन्दोलन भी शुरू करेंगे। इसके बाद सिटी मैजिस्ट्रेट एनपी पाण्डेय को ज्ञापन देकर टीईटी धारकों ने कहा कि सरकार नये विज्ञापन की बहाली करके शीघ्र काउन्सिलिंग करा कर भर्ती प्रक्रिया शुरू करे। प्रदेश सरकार से माँग की जाती है कि वो बीएड व टीईटी पास धारकों के हितों को ध्यान में रख कर उनके परिवार के उज्जवल भविष्य को पूरा करने के उद्देश्य से समस्त टीईटी धारकों की नियुक्ति करें। इस मौके पर रंजीत सिंह, अनिल निरंजन, शांता मिश्रा, मु. आरिफ खांन, जयदीप अवस्थी, अनिल ओमरे, राजेश गुप्ता, शशि स्वरूप, संजय सिंह, अशोक श्रीवास्तव, अलका गुप्ता, धर्मेन्द्र सिंह, भावना कुमारी, रिहाना एवं परबीन समेत सैंकड़ों टीईटी धारक एवं बीएड पास अभ्यर्थी मौजूद रहे।टो-04