?> बिना इंटरनेट के चलेगा किसान एप, मिलेगी सारी जानकारी बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़ किसान अब अपने मोबाइल फोन पर यह मालूम कर सकेंगे कि उन्"/>

बिना इंटरनेट के चलेगा किसान एप, मिलेगी सारी जानकारी

किसान अब अपने मोबाइल फोन पर यह मालूम कर सकेंगे कि उन्हें अपने क्षेत्र में किस फसल के लिए कितनी मात्रा में खाद डालनी है। यह जानकारी उन्हें कृषक एप पर मिलेगी। इसे एक बार डाउनलोड करने के बाद इसके इस्तेमाल के लिए इंटरनेट की कनेक्टिविटी भी जरूरी नहीं होगी यानि नेटवर्क नहीं होने पर भी एप का इस्तेमाल कर खेती किसानी को बेहतर किया जा सकेगा।

इंडो यूरोपियन चेंबर ऑफ काॅमर्स एंड इंडस्ट्रीज (आईईसीसीआई) के एग्रीकल्चर नेटवर्क ने किसानों के लिए हाल ही में यह एप लाॅन्च किया है। इसमें पूरे देश के क्षेत्रों की मिट्टी का डाटा और 100 से ज्यादा फसलों की रिकमंडेड मेक्रो न्यूट्रिएंट वेल्यू फीड की गई है।

आईईसीसीअाई के मुताबिक पिछले साल केंद्र सरकार ने एक सर्कुलर जारी किया था। इसमें फर्टिलाइजर डीलर की शैक्षणिक योग्यता बीएससी एग्रीकल्चर डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर इनपुट या फिर केमेस्ट्री से एमएससी होने मापदंड तय किया था। इसका उद्देश्य यह था कि किसानों को यह डीलर सही खाद की सही मात्रा फसल और मिट्टी के अनुसार बताएं। इसके चलते किसानों के लिए यह एप लॉन्च किया गया है।

सबसे पहले फसल की श्रेणी का चयन करें, फिर फसल का चयन करें, आपका खेत एरिया हेक्टेयर या एकड़ में डालें। सॉइल टेस्ट यानी मिट्टी परीक्षण कार्ड है तो कार्ड के अनुसार एनपीके की वेल्यू डालें। यदि कार्ड नहीं है तो अपना राज्य, जिला और ब्लाॅक चुनें। इसके बाद सामान्य उर्वरक पर क्लिक करें। एप पर खाद के छह सम्मिश्रण उपलब्ध हैं। इसके साथ ही यह जानकारी भी मिलेगी कि इन मिश्रणों को कब और कैसे डालना है।

यह एप नाम-पता एक्सेस यानी कोई जानकारी नहीं मांगता। एक बार डाउनलोड कर लिया तो पूरे समय इंटरनेट से कनेक्ट रहने की जरूरत नहीं है। इससे किसानों को नेटवर्किंग की समस्या से नहीं जूझना होगा।