< जिले में ठण्डे पेय पदार्थो के नाम पर लोगो की जान के साथ खिलवाड Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News जानी-मानी मल्"/>

जिले में ठण्डे पेय पदार्थो के नाम पर लोगो की जान के साथ खिलवाड

जानी-मानी मल्टीनेशन कम्पनियांे के हानिकारक तत्वों की मात्रा को लेकर लम्बे समय से बहस जारी है। फलस्वरूप इनका उपयोग इंसान के लिए सुरक्षित होने के सवाल पर विशेषज्ञों की अलग-अलग राय है। इन सबके बीच पन्ना समेत समूचे जिले में कोल्ड ड्रिंक्स और मिनरल वाटर के नाम पर खुलेआम जहर बेंचा जा रहा है।

एक्सपायरी डेट का कोल्ड ड्रिंक्स जहर ही तो है। पुराना स्टॉक खपाने के लिए दुकानदार ग्राहकों की सेहत को खतरे में डाल रहे है। उल्लेखनीय है कि कोल्ड ड्रिंक्स बनाने वाली विभिन्न कम्पनियों द्वारा अपने उत्पाद के उपयोग की अवधि उत्पादन तिथि से मात्र दो माह तक निर्धारित की गई है। अर्थात उत्पादन तिथि के दो माह बाद की कोल्ड ड्रिंक्स उपयोग के लायक नहीं है।

इस उमसभरी प्रचण्ड गर्मी में प्यास बुझाने व कुछ देर के लिए गला तर करने के लिए कोल्ड ड्रिंक्स खरीदने वाले 99 फीसदी लोग जल्दबाजी के कारण अथवा अज्ञानतावश उसकी उत्पादन तिथि व उपयोग की अवधि पर नजर नहीं डालते। ग्राहकों की इस लापरवाही का अनुचित फायदा उठाकर अधिकांश दुकानदार एक्सपायरी डेट की कोल्ड ड्रिंक्स व मिनरल वाटर की बोतलें और पाउच बेंच रहे है।   चिंता की बात यह है कि मिथ्याछाप, मिलावटी एवं एक्सपायरी डेट के खाद्य पदार्थों की बिक्री को रोकने के लिए जवाबदेह खाद्य एवं औषधी प्रशासन विभाग के अमले की जानकारी में एक्सपायरी डेट की कोल्ड ड्रिंक्स व मिनरल वाटर बिक्री का गोरख धंधा खुलेआम बड़े मजे से चल रहा है।

इसे जिले में पदस्थ खाद्य सुरक्षा अधिकारियों की भूमिका पर कई गंभीर सवाल उठ रहे है। 
डीलर करते है डिलेवरी- एक्सपायरी डेट के शीतल पेय पदार्थों की बिक्री की पड़ताल करते हुए स्टार समाचार की टीम ने कई दुकानों पर पहुंचकर जब कोल्ड ड्रिंक्स मांगी तो अधिकांश जगह एक्सपायरी डेट की ही कोल्ड ड्रिंक्स मिली। उत्पादन तिथि की समाप्ति के बाद भी कोल्ड ड्रिंक्स की बिक्री करने संबंधी सवाल पर एक दुकानदार ने अपना नाम और पहचान उजागर न करने की शर्त पर बताया कि यह धतकरम थोक डीलर यानि एजेन्सी संचालकों का है।

वे अपने पुराने स्टॉक को खपाने के लिए कोल्ड ड्रिंक्स व मिनरल वाटर की नई बोतलांे के बीच में पुरानी बोतलें रखकर डिलेवरी करते है। प्रायः जब भी एजेन्सी के कर्मचारी आर्डर पर ठण्डा की कैरेट या कार्टून की डिलेवरी देने आते है उस समय दुकानदारी के चलते एक-एक बोतल की जांच कर पाना व्यवहारिक तौर पर संभव नहीं हो पाता। उलाहना देने पर एजेन्सी संचालक स्पष्ट कहते है कि पुरानी कोल्ड ड्रिंक्स फेंक तो नहीं सकते।

सभी को थोड़ा बहुत सहयोग तो करना ही पड़ेगा। 
बिक्री पर लगे रोक- इंसान की सेहद के लिए हानिकारक एक्सपायरी डेट के कोल्ड ड्रिंक्स, मिनरल वाटर और पाउच की बिक्री को रोकने के लिए जिला प्रशासन को आगे आना होगा। अभियान की तर्ज पर दुकानांे की जांच कराकर एक्सपायरी डेट के हानिकारक कोल्ड ड्रिंक्स को यदि नष्ट नहीं किया गया तो बीमारियों की दृष्टि से बेहद संवेदनशील समझे जाने वाले गर्मी के मौसम में इनका सेवन कर लोग बीमार भी पड़ सकते है। जिला प्रशासन को चाहिए की जहां कहीं भी एक्सपायरी डेट के कोल्ड ड्रिंक्स का स्टॉक रखा है उसे तत्काल जब्त करते हुए आवश्यक कार्रवाई की जाये।

इनका कहना है-‘‘मुझे भी कुछ स्थानों पर कम मात्रा में एक्सपायरी डेट का कोल्ड ड्रिंक्स मिला था जिसे नष्ट कराया गया। व्यापारियों ने बताया कि एजेन्सी संचालकों के द्वारा एक्सपायरी डेट के कोल्ड ड्रिंक्स व मिनरल वाटर की सप्लाई की जा रही है। जिला प्रशासन व नगर पालिका का सहयोग लेकर इस पर तत्काल कार्रवाई की जायेगी।‘‘
     -श्रीमती कविता राठौर, खाद्य सुरक्षा अधिकारी पन्ना

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें