?> यूपी विधानसभा के पहले सत्र में जबरदस्त हंगामा,राज्यपाल पर फेंके कागज बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़

यूपी विधानसभा के पहले सत्र में जबरदस्त हंगामा,राज्यपाल पर फेंके कागज

उत्तर प्रदेश की नई विधानसभा का पहला सत्र आज से शुरू हो रहा है। लेकिन, पहले ही दिन जोरदार हंगामा हो रहा है। विपक्ष इतना हंगामा कर रहा है कि राज्यपाल का अभिभाषण भी कोई नहीं सुन पाया। समाजवादी पार्टी के सदस्य सभापति की कुर्सी तक पहुंच गए। सभापति के अभिभाषण के दौरान वेल में एक बार फिर विधान परिषद के सदस्य हंगामा करने लगे।

जीएसटी बिल पास करने के लिए बुलाया गया ये विशेष सत्र 22 मई तक चलेगा। विधानसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत मिलने के बाद बीजेपी की सरकार का ये पहला विधानसभा सत्र है। सत्र की शुरुआत राज्यपाल राम नाईक के अभिभाषण से हुई। राज्यपाल आज सुबह करीब 11 बजे से विधानमंडल के दोनों सदनों के संयुक्त अधिवेशन को संबोधित कर रहे थे।

उत्तर प्रदेश विधान सभा का पहला सत्र शुरू होते ही विपक्ष ने हंगामा कर दिया। राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान विपक्षी विधायकों ने राज्य में कानून व्यवस्था के मुद्दे पर हंगामा करते हुए राज्यपाल पर कागज फेंके। विपक्षी विधायक सदन में प्लेकार्ड लेकर आए थे। राज्यपाल का अभिभाषण शुरू होते ही समाजवादी पार्टी के विधायकों ने उनकी ओर कागज के गोले फेंके।

सत्र में हंगामे के आसार पहले से ही लगाए जा रहे थे। क्योंकि विपक्षी दलों ने कानून व्यवस्था का मुद्दा प्रमुखता से उठाने का फैसला किया है। विपक्ष के हंगामे की आशंका को देखते हुए सरकार ने जवाबी कार्यवाही के मकसद से जरूरी दस्तावेज भी जुटाये हैं।

अभी इस सत्र में बुलंदशहर, सहारनपुर, गोण्डा और संभल में हाल के जातीय और सांप्रदायिक तनाव का मुद्दा उठने की उम्मीद है। पूर्व की सपा सरकार के शासन को ‘गुंडाराज’ कहने वाली बीजेपी कानून व्यवस्था को दुरूस्त करने के वायदे के साथ सरकार में आयी है।

पहले सत्र की शुरुआत से पहले योगी सरकार ने प्रशासनिक फेरबदल का भी फैसला किया है. 31 आईपीएस अधिकारियों का तबादला किया गया है। कई शहरों के एसएसपी बदले गए हैं। दलील यही है कि राज्य में कानून व्यवस्था के साथ कोई समझौता नहीं होगा। कोशिश हर हाल में इसे बेहतर करने की है। पिछले 30 दिनों में छठी बार फेरबदल हुआ है। जनता भी इसी उम्मीद में है कि योगीराज के फैसले उनकी बेहतरी के लिए ही हों