?> राजापुर : एक ऐसा क्षेत्र जिसे मिला है यमुना का वरदान फिर भी यहाँ है पानी की भीषण समस्या बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़ राजापुर समूचे विश्व में अपने ग्रन्थ से ज्ञान का मार्"/>

राजापुर : एक ऐसा क्षेत्र जिसे मिला है यमुना का वरदान फिर भी यहाँ है पानी की भीषण समस्या

राजापुर समूचे विश्व में अपने ग्रन्थ से ज्ञान का मार्ग प्रशस्त करने वाले गोस्वामी तुलसीदास की जन्मस्थली राजापुर (चित्रकूट) इन दिनों कई मूलभूत समस्यायों से जूझ रही है । सबसे खास बात ये है कि सन्त श्री गोस्वामी तुलसीदास ने अपने ग्रन्थ से समस्त भारतवासियों के ज्ञान की प्यास बुझाई लेकिन आज उनकी अपनी धरती प्यास से तड़प रही है । राजापुर को ईश्वर ने यमुना नदी जैसा उपहार दे रखा है लेकिन बावजूद इसके सरकारी मशीनरी की असंवेदनशीलता के चलते यहाँ के लोग साफ सुथरा पानी पीने को तरस रहे हैं । आस पास के गाँवो में पानी की जबरदस्त किल्लत है । यहाँ के लोगो का आरोप है कि प्रशासन ने सिवाए आश्वासन के कुछ नही किया ।

आपको बता दें कि पिछले तहसील दिवस में जिलाधिकारी मोनिका रानी ने खण्ड विकास अधिकारी को निर्देश दिए कि जो हैण्डपम्प खराब हैं इनको ठीक कराने के लिए सूची बनाकर प्राप्त करा दें। जिन हैंडपंपों में अभी तक जो कार्य कराये गये हैं उसकी भी सूची उपलब्ध करा दें। पानी की समस्या किसी ग्राम पंचायत में नहीं होनी चाहिए। प्रत्येक गांव में तालाब हैं और जिसमें पानी नहीं है उन्हें पानी से भरवाया जाय ताकि लोगों के नहाने एवं पशुओं को पीने का पानी उपलब्ध हो सके। बड़ी-बड़ी ग्राम सभाओं में टैंकर क्रय किये जाएं जिससे पानी पीने की किल्लत इन्हीं टैंकरों के माध्यम से दूर की जा सके तथा आग लगने की स्थिति में यह टैंकर भी काम आयेंगे।

इन समस्यायों पर नगरवासियों की भी अपनी अलग अलग राय है । शैलेंद्र द्विवेदी का कहना है कि टैंकर की व्यवस्था सिर्फ खास लोगों के लिये है । अधिकारी सिर्फ आश्वासन देते हैं। शैलेंद्र बताते हैं कि पिछले दिनों लगभग 25 हैण्डपम्प रीबोर हुए हैं लेकिन सिर्फ कागज पर । जल संस्थान के अधिकारी भी गायब रहते हैं । वहीं मानवाधिकार एशोसियेशन के जिला उपाध्यक्ष राजेंद्र पांडेय बताते हैं कि जल और विद्युत विभाग के अधिकारी अपनी मनमानी करते हैं । हैंडपंपो की देखरेख नही होती जिस कारण वो पानी देना बंद कर देते हैं । नगर की नालियां बहुत खराब है ।

जब इस सम्बन्ध में हमने जेई साहब से संपर्क किया तो पता लगा वो कर्वी मुख्यालय में हैं । उन्होंने फोन से बातचीत में बताया कि राजापुर में पानी की अव्यवस्था पर खास ध्यान दिया जा रहा है । कहीं कहीं पानी की विशेष समस्या है और हम उन स्थानों का विशेष ध्यान दे रहे हैं। उनका कहना था अभी पानी की जो भी समस्याएं सामने आ रही हैं उन्हें जल्द से दूर किया जायेगा । जो भी हैण्डपम्प खराब है उनके रीबोर के आदेश दे दिए गए हैं और जल्दी ही सभी हैण्डपम्प ठीक किये जायेंगे ।

राजापुर के उपजिलाधिकारी दुर्गेश मिश्र ने बुन्देलखण्ड न्यूज से इस समस्या पर खास बातचीत में बताया कि गर्मी बढ़ने के कारण पेयजल की समस्या भी बढ़ी है लेकिन हम पूरे प्रयास कर रहे हैं कि इस समस्या से आम लोगो को निजात मिल सके । हैण्ड पम्पो को ठीक कराया जा रहा है । तालाब भी भराये जा रहे है । कुओं में ब्लास्टिंग का काम भी जारी है । गाँवो में टैंकर भी भेजे जा रहे हैं । फिलहाल अभी तक हमारे पास आस पास के गाँवो से पानी की कोई समस्या सामने नही आई है ।

बहरहाल शासन , प्रशासन कुछ भी कहे लेकिन सच्चाई ये है कि आम लोगो को पीने के पानी की काफी समस्या है । तालाबो की स्थिति की अगर बात करें तो अधिकांश सूखे ही हैं । ज्यादातर हैण्डपम्प खराब हैं और जो सही भी हैं उनमें से गन्दा और बदबूदार पानी आता है । कुलमिलाकर राजापुर और उसके आसपास के गाँवो में पानी की भीषण समस्या है ।

पानी के नाम पर सरकार द्वारा दिये जा रहे करोडो के बजट का अच्छा बंदरबांट किया जा रहा है । योगी सरकार ने कैबिनेट की अपनी पहली बैठक में ही स्पस्ट किर दिया था कि बुन्देलखण्ड उनकी पहली प्राथमिकता में है लेकिन जिस तरह से यहाँ के लोग पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। उसे देखने के बाद सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती ये होगी की कैसे इस समस्या से जल्द से जल्द निजात पाई जाये।



चर्चित खबरें