ये एकान्त भी ज़रूरी है : टोटल लॉकडाउन

प्रत्येक जिंदगी को अंतर्मन से पूंछने का वक्त है कि अब से पहले आपके जीवन मे इस प्रकार का एकांत का पल कब आया ? जब देश - दुनिया की कोई चिंता और जवाबदेही का दबाव मन - मस्तिष्क मे ना रहा हो ! 

यह समय भी महत्वपूर्ण है। इस समय की सदुपयोगिता को महसूस करने की आवश्यकता है। बुन्देलखण्ड न्यूज यही सोचने-समझने का अवसर लेकर आया है। एक - दूसरे से जुड़ने का अवसर और अपने विचारों को प्रेषित कर प्रत्येक व्यक्ति को ध्यानस्थ होकर सोचने के लिए मजबूर करना कि इन दिनों मे हम नया क्या कर सकते हैं ? अपनी जिंदगी से पूंछिए कि उसकी मांग क्या है ? आसपास के कोलाहल से मुक्त होकर एकांत के पल मे कुछ सुलझे - अनसुलझे सवाल - जवाब भी कर लिया जाए, तो संभव है कि आपके जीवन का नया सवेरा अब आपको महसूस हो जाए ! 

वैसे भी इस महामारी ने प्रत्येक व्यक्ति को बहुत कुछ सोचने को मजबूर कर दिया है। जैसे कि क्या कभी हमने सोचा था कि ऐसे भी पल जीवन मे आएंगे, जब हमें घरों में स्वयं को कैद करना पड़े और तब भी हमारी सांसो की गारंटी हो सकती है कि वह चलेंगी ही ? बेशक हम मे से कोई जीवन मे ऐसे पल के लिए तैयार नहीं था। बेशक हम कभी एकांत मे जीवन व्यतीत करने के लिए जाते थे। परंतु वह ऐच्छिक है और धन खर्च करके कहीं कुछ दिनों तक एक अलग प्रकार का जीवन जीते, फिर भी चेतना का स्रोत जागृत हो ऐसा नहीं कहा जा सकता। आज इस महामारी ने मनुष्य के चेतना के स्रोत को जागृत किया। घरों के अंदर रहकर अवश्य आपके मन मे कुछ ना कुछ विचार चल रहा होगा तो इस एकांत के पल में जिंदगी से संबंधित अपने विचार समाज से साझा कर एक नई चेतना को जन्म दें, संभवतः हम सभी अच्छी आत्माएं चेतना का विस्तार कर विचारों के माध्यम से एक उत्तम सृष्टि का सृजन कर सकें। 

असल मे प्रकृति ने यह जीवन सृजन हेतु प्रदान किया पर यह सच है कि वैश्विक युद्धकारी - नीतियों हमारा जीवन एक वायरस की चपेट में आकर थम सा गया। चूंकि काम बिना धन नहीं और धन बिना जीवन के साधन - संसाधन उपलब्ध नहीं हो सकते। अतः जीवन में काम भी कितना महत्वपूर्ण है, यह हमें अब अहसास हो रहा है। महिला हों या पुरूष हों और हों बच्चे सभी अपने विचार वीडियो के माध्यम से साझा करें , हम उन्हें प्रसारित करेंगे। उन पर लिखेंगे और आपके विचारों से ना सिर्फ भारत को अपितु विश्व को भी सृजन का नया पथ मिल सकता है, ऐसा संभव है और हम - आप संभव कर दिखाएंगे। 

एकांत के विचारों की एक श्रृंखला बुन्देलखण्ड से शुरू होगी और वैश्विक स्तर पर देखी - सुनी जाएगी। आइए एकांत मे सृजन करें, एकांत के महत्व को महसूस करें।