कोरोना को मात देने का दिखा संकल्प

@राजकुमार याज्ञिक, चित्रकूट

पीएम की अपील पर जनपद में जनता कफ्र्यू पूरी तरह सफल रहा। रात्रि में यात्रा कर बाहरी लोग घर आने को स्टेशनों में भटकते रहे। वाहन न मिलने से यात्री खासा हलाकान हुए। सूचना मिलते ही जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक ने पहुंच कर स्वास्थ्य टीम बुलाया और जांच कराई। इसके बाद वाहन का इंतजाम कर गंतव्य को भेजा गया। व्यस्ततम मार्ग सूने रहे। बाइक सवारों को पुलिस टीमें के साथ जागरुक करते देखे गए। 

यह भी पढ़ें :बुन्देलखण्ड के सभी जिलों में जनता कर्फ्यू के दौरान पसरा सन्नाटा, शाम 5 बजे बजाया घंटी-घंटा

कोरोना वायरस से सुरक्षा को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आवाहन पर जनता कफर््यू रविवार को सवेरे से दिखी। सात से नौ बजे तक घर पर रहने की अपील किया तो जनता सुरक्षा के प्रति खासा जागरुक हो गई। तड़के जहां भारी तादाद में लोग देखे जाते थे, वहीं सूनी सड़के रहीं। व्यस्ततम ट्राफिक चैराहा, चकरेही चैराहा, काली देवी चैराहा, पुरानी बाजार, बस स्टैन्ड, रेलवे स्टेशन के आसपास चहल-पहल नहीं थी। इसके अलावा मानिकपुर, मऊ, राजापुर, पहाडी, भरतकूप, शिवरामपुर, बरगढ़, सीतापुर आदि क्षेत्रों में सवेरे से रात तक सन्नाटा नजर आया। लोगों घरों में टीवी के सामने देश की स्थिति देखते रहे। दवा, व्यापारिक, सब्जी, चाय, पान, ठेले आदि दुकानदार घरों से बाहर नहीं निकले।

यह भी पढ़ें :पीएम मोदी ने निभाया अपना कर्त्तव्य, अब जनता की बारी

कोरोना वायरस से बचाव को लेकर लोग पहले से ही मन बना लिया था। यातायात प्रभारी योगेश कुमार ने टीम के साथ ट्राफिक चैराहा से कभी कभार गुजरने वाले वाहन चालकों को रोक कर मास्क लगाने व घरों पर रहने की अपील की। भगवान श्रीराम की तपोस्थली चित्रकूट में जनता कफर््यू का खासा असर दिखा। 

यह भी पढ़ें : कोरोना वायरस की चपेट में बेबी डॉल फेम कनिका कपूर, टेस्ट पॉजिटिव

गौरतलब हो कि बीते तीन दिनों से कोरोना वायरस के चलते मठ-मंदिरों के कपाट बंद कर दिए गए थे। भीड वाले इलाकों में लोगों का आना-जाना कम हो गया था। इसके अलावा प्रशासन द्वारा लगातार जागरुक किया जा रहा है। प्रधानमंत्री के ताली, थाली, घंटी, शंख शाम पांच बजे बजाने के लिए कहा था, लेकिन लोग सवेरे से ही बजाते रहे।