< गणतंत्र दिवस पर हुआ महात्मा गांधी पर व्याख्यान और कवि सम्मेलन Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News सागर,

भारत के 71 व"/>

गणतंत्र दिवस पर हुआ महात्मा गांधी पर व्याख्यान और कवि सम्मेलन

सागर,

भारत के 71 वे गणतंत्र दिवस पर म.प्र. हिन्दी साहित्य सम्मेलन सागर द्वारा जे.जे. इंस्टीट्यूट सिविल लाइंस में महात्मा गांधी पर व्याख्यान एवं कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि जे.एल.राठौर तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में महिला लेखिका संघ सागर की अध्यक्ष श्रीमती सुनीला सराफ उपस्थित रही।अध्यक्षता कवि आर.के.तिवारी ने की।

प्रमुख वक्ता हिंदी साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष आशीष ज्योतिषी ने भारत के स्वाधीनता संग्राम में महात्मा गांधी की प्रमुख भूमिका औऱ भारतीय गणतंत्र को रेखांकित करते हुए  विस्तारपूर्वक प्रकाश डाला।उन्होने कहा की महात्मा गाँधी इस देश की आत्मा है, भारत का संविधान उन्हीं की भावनाओं का परिणाम है। उसका मूल स्वरूप खतरे मेंं है । आज प्रत्येक नागरिक को अधिकार औऱ कर्तव्य जानने होगे । अपने वक्तव्य मेंं श्री ज्योतिषी ने कहा कि भारतीय संविधान ही हमारे लिए गीता,बाईबल औऱ कुरान है।इस अवसर पर उन्होंने उपस्थित जन को संविधान की प्रस्तावना की शपथ दिलाई तथा प्रमाण पत्र प्रदत्त किए। 

दो चरणों में आयोजित हुए इस गरिमामय कार्यक्रम का कुशल संचालन आयोजक संस्था की उपाध्यक्ष कवयित्री डॉ. चंचला दवे ने किया। हिन्दी साहित्य सम्मेलन सागर के सचिव पुष्पेंद्र दुबे पुष्प ने आयोजन के उद्देश्य और संस्था का परिचयात्मक विवरण दिया। सम्मेलन के कोषाध्यक्ष प्रदीप पाण्डेय ने आभार प्रदर्शन किया।इस अवसर पर आशीष ज्योतिषी, पुष्पेंद्र दुबे पुष्प,आर.के.तिवारी,ज. ला.राठौर प्रभाकर, सुनीला सराफ, डॉ.चंचला दवे, अमित आठिया,अबरार अहमद, प्रदीप पाण्डेय,डॉ.सतीश पांडेय, देवकी नायक दीपा, वृन्दावनराय सरल,देवकी नंदन रावत,प्रभात कटारे, कपिल चौबे,अशोक तिवारी अलख,डॉ. अशोक कुमार तिवारी,डॉ.नलिन जैन,असगर पयाम, वीरेंद्र प्रधान,कैलाश तिवारी विकल, पूरनसिंह राजपूत, सुबोध श्रीवास्तव, देवीसिंह राजपूत, आशीष जैन निशंक और आज्ञा तिवारी मधु ने कविता पाठ किया।

अन्य खबर

चर्चित खबरें