< चक्काजाम करने को लेकर 80 भाजपाइयों पर एफआईआर Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News दमोह,

जबलपुर-दमोह स्टेट हाइवे"/>

चक्काजाम करने को लेकर 80 भाजपाइयों पर एफआईआर

दमोह,

जबलपुर-दमोह स्टेट हाइवे मरम्मत की मांग लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं ने बुधवार को टोलनाके पर चक्काजाम कि या और टोल फ्री करने की मांग की। करीब एक घंटे से अधिक समय तक जाम लगा रहा। इस दौरान एंबुलेंस को छोड़कर किसी भी वाहन को निकलने नहीं दिया गया। आंदोलन का नेतृत्व कर रहे भाजपा युवा नेता सिद्धार्थ मलैया ने प्रशासन को कई बार ये कहते हुए चेतावनी दी कि वह जनता की समस्या से जुड़ी बात को लेकर विरोध जता रहे हैंछ यदि वह चाहें तो लाठियों के दम पर उन्हें यहां से हटा सकते हैं। 

करीब घंटे भर तक प्रदर्शन करने के बाद गिरफ्तारी दी गईं। 60 से ज्यादा गिरफ्तारी दे कर सभी भाजपाइयों को बस में बैठाकर तहसील ग्राउंड लाया गया जहां मुचलका पर रिहा किया गया। इससे पहले दोपहर 12.30 बजे भाजपा कार्यकर्ता जिला भाजपा कार्यालय में एकत्रित हुए, जहां सै रैली के रूप में टोल नाका पहुंचे। उन्होनें 1 बजे से 2.15 बजे तक जाम लगाकर प्रदर्शन किया। इस बीच बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा। विरोध के बीच युवा नेता सिद्धार्थ मलैया ने विधायक द्वारा पूर्व मंत्री पर लगाए गए गंभीर आरोपों का पलटवार किया। उन्होंने आरोप लगाया कि विधायक आबकारी विभाग से हफ्ता वसूल रहे हैं।

भाजपा के प्रदर्शन में बस यूनियन के अध्यक्ष शंकर लाल राय व सचिव शमीम कुरैशी पहुंचे। बस यूनियन अध्यक्ष शंकर लाल राय ने कहा कि भाजपा ने उनके आंदोलन को आगे बढ़ाया, इसलिए वह बधाई के पात्र हैं। आने वाले दिनों में दमोह बस स्टैंड को लेकर साथ में आंदोलन करेंगे। फिर बोले कि वर्तमान में जो विधायक हैं, उनसे विकास की कोई उम्मीद नहीं की जा सकती है और भविष्य में भी नहीं होगी। कु छ लोग पांच बार के लिए विधायक बनते हैं, कोई 10 बार के लिए विधायक बनता है, लेकि न उन्हें लगता है कि दमोह विधायक एक बार के लिए ही विधायक बने हैं। आपको बता दें कि बस यूनियन अध्यक्ष श्री राय के बेटे राजा राय विधायक राहुल सिंह के काफी करीबी माने जाते हैं। चार दिन पहले ही टोल नाके पर शुरू हुआ प्रदर्शन कुछ और ही कहानी बयां कर रहा है। इस विरोध प्रदर्शन के बहाने राजा राय सिद्धार्थ मलैया के साथ फोटो खिंचवाते नजर आए और आज उनके पिता ने सीधे विधायक पर ही जुबानी प्रहार कर ये बता दिया है कि शायद अब उनके और विधायक के संबंध ठीक नहीं रहे।

युवा नेता सिद्धार्थ मलैया ने पिकअप गाड़ी पर खड़े होकर लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा बस ऑपरेटर यूनियन की डिमांड सही थी, कि जब तक रोड न बने टोल पर सेवा शुल्क न लिया जाए, जिसका सभी ने दलगत राजनीति से ऊपर उठकर समर्थन किया, इसके पहले भी भाजपाईयाें ने रोड नहीं तो टोल नहीं को लेकर प्रदर्शन किया। कल जो हुआ ठीक नहीं है उससे विश्वास कैसे बनेगा, जो सेवा हमें नहीं मिल रही उसकी शुल्क क्यों दें, चार दिन में जिम्मेदारों से जवाब मिलता तो आंदोलन औ चक्काजाम की स्थिति नहीं बनती, लेकिन करना पड़ा।

उन्होंने कहा विधायक यहां आए थे कह रहे थे वित्तमंत्री के समय ये रोड बनी थी, बहुत भ्रष्टाचार हुआ, जो लोग ये बात करते हैं मैं उनकाे जवाब देना चाहता हूं कि इतनी खराब रोड थी तो विधायक से कहूंगा यहां खड़े हों और अधिकारियों व कर्मचारियों को बोले तो 15 दिन शुल्क नहीं लें, क्या उन्हें नहीं लगता ये सही बात है, उन्होंने विधानसभा मेें प्रश्न किए, जनता की सेवा फंड बांटने से नहीं होती, प्रश्न लगाया मिशन ग्रीन दमोह में कितना पैसा लगा, लेकिन बता दें किसी से कोई पैसा लिया हो, विधायक समझते हैं आबकारी विभाग जहां से आपको हफ्ता बंधता है, प्रश्न क्या लगाया दमोह बालाकोट रोड सिद्धार्थ मलैया बना रहे हैं, आज से 70 साल पहले आपके नेता जयंत मलैया शहर के सबसे बड़े आदमी थे जहां पर मुठ्ठी भर जाति के लोग हों और 7 चुनाव जीते हों मामूली बात नहीं है, उन्होंने कहा आज विधायक को लोग अलग अलग नाम से पुकारते हैं, उनके साथ रहने वाले लोगों ने बेलाताल के पास रोड बनवाई है जो 15 दिन में उखड़ गई। 

अन्य खबर

चर्चित खबरें