लुटेरों को पकड़ने में पुलिस के लिए वरदान बना फास्टैग

टीकमगढ़,

ओरछा में ड्राइवर की हत्या कर फॉर्च्यूनर कार लूटकर भाग रहे बदमाश ग्वालियर के पास टोल प्लाजा पर फास्टैग की मदद से पुलिस के हत्थे चढ़ गए। पुलिस ने एक बदमाश को पकड़ लिया। जबकि दूसरा मौके से फरार हो गया। संभवतरू देश का यह पहला मामला है जिसमें फास्टैग तकनीक की वजह से पुलिस ने हत्या और लूट के आरोपी को कुछ ही घंटे में गिरफ्तार कर लिया। 

घटना रविवार रात 8ः30 बजे डॉ. डीएन मिश्रा के भाई बीएन मिश्रा अपने परिवार के साथ ओरछा रामराजा सरकार के दर्शन करने आए थे। किले के पास पार्किंग में लगी फॉरच्यूनर कार के चालक इंद्रमणि तिवारी से दो अज्ञात युवक कट्‌टा अड़ाकर कार की चाबी छुड़ाने लगे। जब चालक इंद्रमणि ने चाबी नहीं दी तो युवकों ने चाकू घोंपकर ड्राइसर की हत्या कर दी और चालक से चाबी छुड़ाकर फॉरच्यूनर कार लूटकर भाग गए। घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पुलिस पहुंची। घटनास्थल पर एसपी मुकेश श्रीवास्तव ने मुआयना किया और आसपास क्षेत्र में कार को पकड़ने के लिए निर्देशित किया। दो घंटे तक कार और आरोपियों की कुछ भी जानकारी नहीं लग पा रही थी।

बेटे के मोबाइल पर आया फास्टैग मैसेज
घटना के बाद समय बीतता जा रहा था मगर पुलिस अधिकारियों को भी कुछ समझ नही आ रहा था। ऐसे में रात होते ही आरोपी फॉरच्यूनर कार को लेकर मुरैना जिले के मेहरा टोल फास्ट से गुजरी तो फॉरच्यूनर कार के मालिक डॉ. बीएन (विद्यानिधि) मिश्रा के बेटे मानस मिश्रा के मोबाइल पर टोल का मैसेज आया। कार में लगे जीपीएस सिस्टम से पुलिस को मुरैना जिले में कार होने का सुराग मिला और दतिया, ग्वालियर, मुरैना और भिंड एसपी से संपर्क किया। अधिकारियों ने तत्परता दिखाते हुए मुरैना पुलिस के सहयोग से मुरैना-आगरा नेशनल हाइवे पर छौंदा बैरियर पर घेराबंदी कर चुराई गई फॉरच्यूनर गाड़ी क्रमांक यूपी 93 एएक्स 4949 कीमत 32 लाख सहित हत्या के मुख्य आरोपी मोहित सिंह जाट पिता रामवीर सिंह जाट उम्र 27 वर्ष को पकड़ लिया। आरोपी के पास से एक देशी कट्‌टा भी बरामद किया है। वहीं एक सह आरोपी जति उर्फ जिमेंद्र पिता जगदीश सिंह कार से कूदकर भाग गया।

घटना के दूसरे दिन एसपी मुकेश श्रीवास्तव ने घटना का खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि आरोपी मोहित सिंह जाट पिता रामवीर सिंह जाट उम्र 27 वर्ष निवासी चरखी दादरी हरियाणा और सहआरोपी जतिन उर्फ जितेंद्र पिता जगदीश सिंह निवासी विसहान झज्जर हरियाणा के रहने वाले हैं। मुख्य आरोपी मोहित सिंह जाट को गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में बताया कि उसकी ससुराल मऊरानीपुर जिला झांसी में है और पिता पहले झांसी में सेना में रहे। इसलिए उसे इस क्षेत्र की पूरी जानकारी थी।