< 2 दर्ज़न से अधिक मवेशियों की गौशालाओ में मौत Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News जालौन,

एक ही रात में जनपद में आटा, एट और जालौ"/>

2 दर्ज़न से अधिक मवेशियों की गौशालाओ में मौत

जालौन,

एक ही रात में जनपद में आटा, एट और जालौन क्षेत्र की गोशालाओं के कुल 28 मवेशियों की ठंड से मौत हो गई। सूचना पर अधिकारी भी गोशालाओं के इंतजाम देखने पहुंच गए। बताया गया की आटा में मरने वाले मवेशी गोशाला के नहीं बल्कि गांव के ही पशु पालकों के है, फिर भी गोशाला में जो कमियां हैं, उन्हें दूर कराया जा रहा है। आटा के कुरहना आलमगीर गांव में 11 मवेशियों के शव पड़े देखे। इस पर ग्रामीणों ने उपजिलाधिकारी कालपी कौशल कुमार व बीडीओ अतिरंजन सिंह को सूचना दी। उपजिलाधिकारी ने गोशाला का निरीक्षण किया।

इस दौरान ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि गोशाला में अव्यवस्था का आलम है। देख-रेख के अभाव में जानवर दम तोड़ रहे है, इतना ही नहीं गोशाला कर्मी मवेशियों के शवों को ऐसे ही खुले में फेंक देते है, जिससे गांव के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है।इसके बाद उपजिलाधिकारी ने गोशाला पहुंच कर मौजूद मवेशियों की गिनती कर खान पान की व्यवस्था देखी। इस दौरान गोशाला में छाया के इंतजाम न देख नाराजगी व्यक्त की और प्रधान को निर्देश दिए कि जल्द सर्दी से बचाव के लिए टट्टर व तिरपाल लगाए जाए।

जालौन के विकास खंड के औरेखी गांव में संचालित अस्थायी गोशाला में सात मवेशियों की मौत हो गई। ठंड लगने से हुई मवेशियों की मौत की सूचना मिलने पर तहसीलदार मौके पर पहुंचे और गायों का पोस्टमार्टम कराया।

ग्रामीण लल्लू पाल, रामकुमार दुबे, ठाकुर कुशवाहा, पूरन दोहरे का कहना है कि प्रशासन की लापरवाही के कारण गोशाला में अभी तक छाया की व्यवस्था नहीं थी। अब छाया कराई जा रही है। तहसीलदार बलराम गुप्ता मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों से जानकारी ली। उन्होंने पशु चिकित्साधिकारी को मौके पर बुलाकर गायों के शवों का पोस्टमार्टम कराया।
जिससे गायों की मौत की स्पष्ट जानकारी मिल सके। 

अन्य खबर

चर्चित खबरें