लंबित न रहे व्यापारियों के आवेदन:डीएम

@ राजकुमार याज्ञिक, चित्रकूट,
जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय तथा पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल की उपस्थिति में कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय उद्योग बंधु की बैठक संपन्न हुई।
जिलाधिकारी ने निवेश मित्र पोर्टल, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, एक जनपद एक उत्पाद, ऋण सहायता योजना तथा अन्य विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की। अग्रणी जिला प्रबंधक इलाहाबाद बैंक को निर्देश दिए कि जिन बैंकों ने प्रगति नहीं की है उनसे जवाब तलब किया जाए। अगली बैठक में कोई भी आवेदन पत्र लंबित नहीं रहना चाहिए। तीन दिन के अंदर निस्तारित कराए जाएं। उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी के बैठक में भाग न लेने पर जवाब मांगा है। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन में जो आवेदन पत्र लंबित है उनको एक सप्ताह के अंदर निस्तारित करने और  औषधि निरीक्षक से स्पष्टीकरण लें। शासन स्तर पर उद्योग बंधु व व्यापार बन्धु की बैठकें कराए जाने का निर्देश प्राप्त हुए है। बैठके नियमित कराई जाएं और बैठकों का कार्यवृत्त शासन को भी भेजें।

बैंक अफसरों, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड अधिकारी, औषधि निरीक्षक से मांगा स्पष्टीकरण

व्यापार बन्धु की समीक्षा में पाया गया कि 752 चिन्हित व्यापारियों का आवेदन पत्र फीड कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कैम्प लगाकर व्यापारियों का सहयोग लें और अधिक से अधिक रजिस्ट्रेशन कराएं। श्रम विभाग की प्रधानमंत्री श्रम मानधन योजना से व्यापारियों को लाभान्वित कराया जाए। श्रम विभाग भी कैंप लगाए और अधिक से अधिक रजिस्ट्रेशन कराएं। व्यापार कर अधिकारी नितिन श्रीवास्तव ने बताया कि जीएसटी के आवेदन पत्र ऑनलाइन प्राप्त होते हैं। जिसमें उनका निस्तारण किया जाता है। जिलाधिकारी ने कहा कि व्यापारियों का किसी भी दशा में उत्पीड़न नहीं होना चाहिए। डीसी वाणिज्य कर का पद खाली है। इसके लिए एक पत्र शासन को भेजा जाए। व्यापार मंडल के पंकज अग्रवाल व ओम केसरवानी ने विभिन्न समस्याएं रखीं। जिस पर जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि तत्काल इन समस्याओं का निस्तारण कराया जाए। कोई भी व्यापारियों से संबंधित मामले लंबित न रहे।

एसपेी ने व्यापारियों को सुरक्षा का दिया भरोसा

पुलिस अधीक्षक ने व्यापारियों तथा पेट्रोल पम्प मालिकों से कहा कि पुलिस से संबंधित जो भी समस्याएं हैं उनका निस्तारण कराया जाएगा। थानावार प्रतिष्ठानों का सर्वे कराया गया है। जिसमें सीसीटीवी कैमरे काफी जगह लगे हैं, लेकिन सड़क की तरफ उनका फोकस नहीं है। जिसे कराया जाए। कुछ पेट्रोल पम्प पर सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हैं वहां पर लगाएं। सीसीटीवी कैमरे की वायरिंग जो कराई जाए उसे बाहर साइड से न कराकर अंदर से करें। डीवीआर को सुरक्षित स्थान पर रखा जाए। कर्मचारियों के वेरिफिकेशन अवश्य करा लें। प्रयासरत हैं कोई घटना न घटे। शासन की मंशा के अनुरूप कानून व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त रहे।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा महेंद्र कुमार, जिला विकास अधिकारी आरके त्रिपाठी, परियोजना निदेशक अनय कुमार मिश्रा, जिला पंचायत राज अधिकारी राजबहादुर, उपायुक्त जिला उद्योग केंद्र एसके केसरवानी, व्यापार मंडल के गुलाब चंद गुप्ता, गिरीश अग्रवाल, राहुल गुप्ता, शुभम गुप्ता आदि मौजूद रहे।