आठ माह से इंग्लिश मीडियम अब कैसे हो गया हिन्दी मीडियम

बांदा,

प्राथमिक स्कूलों में पढ़ने वालों बच्चों को भी निजी अंग्रेजी स्कूलों की तरह पढ़ाने की सरकार की मंशा को जिला बेसिक शिक्षा विभाग ने उस समय पलीता लगा दिया जब आठ माह से अंग्रेजी माध्यम में चल रहे विद्यालय को हिन्दी माध्यम में बदल दिया गया। इस परिवर्तन से अभिभावको में आक्रोश व्याप्त है।

यह मामला बडोखर ब्लाक के परिषदीय विद्यालय अरबई का है। यहां 2019-20 में अंग्रेजी माध्यम के लिए इसका चयन किया गया। ब्लाक से लेकर जिले के अधिकारियों ने कागजी खानापूर्ति करके विद्यालय की रंगाई पुताई करायी और उसमें सुन्दर अक्षरों में इंग्लिश मीडियम भी लिखा दिया। माह अप्रैल से 05 दिसम्बर तक यह परिषदीय विद्यालय अंग्रेजी माध्यम से चलता  रहा लेकिन शिक्षा विभाग की लापरवाही से इसे अब हिन्दी मीडियम में बदल दिया गया।

गांव के लोग इस बात से बहुत खुश थे कि हमारे बच्चे इंग्लिश मीडियम स्कूल में पढ़ रहे है लेकिन जब रातों रात इसे हिन्दी मीडियम में बदल दिया गया है तो उन्हें गहरा सदमा लगा। ग्रामीणों ने जब इसका विरोध करना शुरू किया तो विभाग ने इस पर लीपापोती शुरू कर दी। बी.एस.ए. भी इस मामले में गोल-मोल जवाब दे रहे है। उन्होंने यहां तक कह दिया है कि इस विद्यालय का इंग्लिश माध्यम के लिए चयन ही नहीं किया गया है। फिलहाल इस मामले की जांच खण्ड शिक्षा अधिकारी को सौंप दी गयी है।