गौशालाओं की व्यवस्था को भेजा 2 करोड़ 45 लाख

निर्माण कार्य धीमा होने व पशु चिकित्सालय में गंदगी देख लगाई फटकार

@ राजकुमार याज्ञिक चित्रकूट,

गौशालाओं के व्यवस्थाओं की जांच पड़ताल को पशु पालन निदेशक व अपर निदेशक ने जनपद में बन रही गौशालाओं व पशु चिकित्सालय का निरीक्षण किया है। उन्होंने धीमा निर्माण कार्य व कार्यालय में गंदगी देख अफसरों को कडी फटकार लगाई है। 

पशु पालन डायरेक्टर डा यूपी सिंह व अपर निदेशक डा एके सिंह ने जनपद के रसिन गांव में निर्माणाधीन गौशाला का निरीक्षण किया। निर्माण कार्य धीमा देख पारा चढ़ गया। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि कार्य अविलम्ब कराया जाए। समय रहते कार्य पूर्ण न होने पर कार्यवाही करें। पशु चिकित्सालय में गंदगी मिली। बैठने की सही व्यवस्था नहीं रही। रिकार्डों को अस्त-व्यस्त देख मुख्य पशु चिकित्साधिकारी केपी यादव को कडी फटकार लगाई है। कहा कि सफाई का विशेष ध्यान दें। खराब वाहनों के मरम्मत के निर्देश दिए हैं। इसके बाद उन्होंने महिला समृद्धि योजना की फीडिंग में गति लाने के लिए कहा। बनकट ग्राम पंचायत में बनी गौशाला के संबंध में कहा कि जिन गौवंशों में टैगिंग नहीं है उसे अविलम्ब करायें।

बताया कि प्रदेश में तीन लाख 86 हजार अन्ना जानवरों को गौशालाओं में रखा गया है। जनपद की गौशालाओं में गौवंशों की देखरेख को आए तीन करोड रुपए में दो करोड 45 लाख रुपए ब्लाकवार भेज दिया गया है। जिससे अस्थाई व स्थाई गौशालायें सुचारू ढंग से संचालित हों सकें।