< विवाह पंचमी : श्री राम जी की बरात में झूमे बराती  Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News @संदीप रिछारिया, चित्रकूट

झुक जइयो तना रघुवी"/>

विवाह पंचमी : श्री राम जी की बरात में झूमे बराती 

@संदीप रिछारिया, चित्रकूट

झुक जइयो तना रघुवीर लली मेरी छोटी सी। आनंद, उत्साह और भक्ति की भावना से भरे भक्तों की आंखों से बहते अश्रु यह बयां कर रहे थे कि उन्हें इस बात का कितना मलाल है कि वह त्रेतायुग में श्री राम व मां जानकी के विवाह से वंचित क्यों रह गए। खैर तीर्थनगरी के भक्तों ने कलियुग में ही त्रेतायुग के दर्शन कर श्री राम जी के विवाह का आनंद लिया। 

धर्मनगरी में लगभग एक दर्जन स्थानों से श्री राम जी बरात उठीं । कहीं बैंड बाजों, तो कहीं ढोल नगाड़ों तो कहीं शंख, घडियालों की थापों से उठी बरातों में बराती जमकर नृत्य कर रहे थे। पुरूष व बचचों के साथ ही महिलाओं का नृत्य भी देखते ही बन रहा था।

वैसे तो विवाह पंचमी के अवसर पर श्री राम जी के विवाह की चित्रकूट में रस्म पुरानी है। बिजावर मंदिर से निकली बरात उप्र क्षेत्र के महाराज मत्तगयेन्द्र नाथ की परिक्रमा कर मालाधारी आश्रम पहुंची तो बाला जी मंदिर से निकली बरात राम जानकी मंदिर पहुंची। बिजावर मंदिर से बरात की खास बात श्री राम जी को पालकी पर लाया गया। जानकीकुंड व परिक्रमा क्षेत्र में भी कई स्थानों पर श्री राम बरात निकली। बरात में बराती देर रात तक झूमते हुए जनक जी के घर पहुंचे। यहां पर बारात का स्वागत किया गया। इसके बाद टीका के बाद बरातियों का स्वागत जलपान व मिष्ठान से किया गया। इसके बाद विवाह की अन्य रस्में निभाई गईं। सुबह के समय विदा के साथ ही मंदिरों में भंडारा हुआ। यह भंडारा देर रात तक चलते रहे।
 

अन्य खबर

चर्चित खबरें