< किसी भी दशा में न हो जच्चा-बच्चा की मौत: डीएम Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News @राजकुमार याज्ञिक, चित्"/>

किसी भी दशा में न हो जच्चा-बच्चा की मौत: डीएम

@राजकुमार याज्ञिक, चित्रकूट

महिला चिकित्सक का रोका वेतन

 जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति शासी निकाय की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में सम्पन्न हुई।

कार्य में रुचि न लेने पर डीसीपीएम, डब्ल्यूएचओ के चिकित्सक, प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही के निर्देश जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी से कहा कि जिन प्रभारी चिकित्साधिकारियों की स्वास्थ्य विभाग के बिन्दुओं की स्थिति खराब है उनके खिलाफ कार्यवाही करें। प्रभारी चिकित्साधिकारी मानिकपुर के बैठक में न आने पर जवाब तलब किया जाये। निक्षय पोषण योजना, डीबीटी की प्रगति अत्यंत खराब होने पर कहा कि डीसीपीएम के खिलाफ कार्यवाही करें। इनके द्वारा कार्य सही न किया जा रहा हो तो हटाकर व्यवस्था करायें। डब्ल्यूएचओ के चिकित्सक के रूचि न लेने पर शासन को पत्र भेजें।

प्रभारी चिकित्साधिकारी पहाड़ी को तत्काल हटाकर वहां पर दूसरे चिकित्सक की तैनाती की जाये। उन्होने सभी चिकित्साधिकारियों से कहा कि गर्भवती महिलाओं व बच्चों की मौत किसी भी दशा में नहीं होनी चाहिए। अगर ऐसा पाया जायेगा तो संबंधित चिकित्सक के खिलाफ कार्यवाही होगी। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को निर्देश दिये कि जिला अस्पताल में सर्जन चिकित्सकों की 8-8 घंटे की ड्युटी लगायें। पूर्व में 10 महिलाओं की मृत्यु हुई थी। जिसकी जांच कराकर रिर्पोट दें। आशाओं के रिक्त पदों पर कहा कि तत्काल भर्ती की जाये। इसमें अगर ग्राम प्रधान सहयोग नहीं कर रहे हैं तो जिला पंचायत राज अधिकारी से सम्पर्क कर निस्तारण करायें। मानिकपुर की महिला चिकित्सक को जिला अस्पताल में सम्बद्ध किया गया है उसके द्वारा काम नहीं किया जा रहा।

उन्होंने वेतन रोकने के निर्देश दिए। शिवरामपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र से एक महिला चिकित्सक को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मानिकपुर देखने का आदेशित किया जाये। बीसीजी टीकाकरण पर कहा कि लक्ष्य के अनुरूप प्रगति नहीं हुई है इसे बढ़ायें। प्रत्येक दशा में स्वास्थ्य विभाग की योजनाओं पर शत प्रतिशत काम चाहिए। स्वास्थ्य विभाग की विभिन्न योजनाएं नीति आयोग के बिन्दुओं पर हैं। इन पर कोई लापरवाही न की जाये। वित्तीय व्यवस्था में व्यय की स्थिति ठीक नहीं है। इसकी एक टीम बनाकर जांच करायें। डीपीएम से कहा कि जिन-जिन मदों पर जो धनराशि प्राप्त हुई है उसका विवरण सहित दें। उन्होंने स्वास्थ्य संबंधी बिन्दुवार समीक्षा की। इस मौके पर संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

चर्चित खबरें