< समाचार सुनि सुर नर, मुनि धाए Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News @संदीप रिछारिया,

समाचार सुनि सुर नर, मुनि धाए

@संदीप रिछारिया, कार्यकारी संपादक

श्री हरि विष्णु की नींद खुलते ही आया श्री राम जन्म भूमि के सच का फैसला

प्रकृति व पशु पक्षी हर एक बड़ी घटना का पूर्वानुमान लगा लेते हैं। आज भी राम की कर्मस्थली में यही होता दिखाई दे रहा था। घटित होने वाले सभी सगुन एक साथ होना चित्रकूट के निवासियों को प्रफुल्लित कर रहे थे। शुक्रवार को भगवान श्री हरि विष्णु के निद्रा से उठने के बाद शनिवार को श्रीराम जन्म भूमि का फैसला हिंदुओं के पक्ष में आने से लोग प्रफुल्लित दिखाई दे रहे हैं। हर कहीं मस्ती का माहौल है। मंदिरों में ढोल नगाड़ा की आवाज ही घंटियों के स्वर सुनाई दे रहे हैं।

सुबह सूर्य की पहली किरण के साथ ही चित्रकूट के श्री कामतानाथ पर्वत के परिक्रमा पथ पर बंदरों मस्ती के साथ उछलना व नृत्य करना, मंदाकिनी के पावन जल में स्फटिक शिला, जानकीकुंड व अनुसुइया आश्रम की मछलियों का डालफिन की भांति बार-बार पानी से उपर आकर उछलकूद करना, अनुसुइया, गुप्त गोदावरी, सरभंग, सुतीक्षण, मडफा,कालिंजर आदि जंगलों में मयूरों का समूह में नृत्य करना इशारा कर रहे थे कि आज कुछ बड़ा होने वाला है। 

सभी समाज के लोगों के किया स्वागत- भोर से ही डीएम व एसपी डटे रहे मोर्चे पर

​​​घड़ी की सुइयों के ठीक साढे दस बजते ही क्या आम और क्या खास, क्या संत- महंत और क्या भिखारी सभी की टकटकी खबरों की ओर हो चली, ऐसा लग रहा था कि श्री राम जी के जन्म की सच्चाई का फैसला सभी को सुनने की आतुरता बहुत तेज है। जैसे-जैसे सीजेआई रंजन गोगोई ने फैसला सुनाना शुरू किया, वैसे वैसे जय श्री राम का उदघोष हर जगह सुनाई देने लगा। पटाखे और बाजों की आवाजों से लोग रोमांच में भरने लगे।

जिलाधिकारी शेषमणि पांडेय व पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल सुबह से ही मोर्चे पर डटे गए। मुख्यालय के तरौंहा के सभी मोहल्लों के साथ ही पुरानी बाजार, बडी मस्जिद की कई बार भ्रमण किया। इस दौरान मोहल्ले के लोगों के साथ बात कर उन्हें आश्वस्त किया कि वह लोग प्रसन्नता के साथ अपने घरों में रहें। किसी भी प्रकार की अफवाह पर ध्यान न दें। अमन और भाईचारे को कायम रखने का काम करना सभी धर्मों के लोगों की जिम्मेदारी है। सीतापुर के पुराने बस स्टैंड पर पप्पू खान ने बताया कि यहां पर पूरी तरह से शान्ति है। किसी को इस फैसले से कोई दिक्कत नहीं है।

मुख्यालय, सीतापुर, खोही के साथ मुस्लिम बाहुल्य गांवों में घूमकर शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की

जिलाधिकारी शेषमणि पांडेय ने कहा कि अमन और भाईचारा हमारी विरासत का हिस्सा है। चित्रकूट का भाईचारा तो सदियों से प्रसिद्ध रहा है। यहां पर एहतियातन गस्त की जा रही है। पूरे जिले में शांति के समाचार मिल रहे हैं। चित्रकूट के निर्मोही अखाडे़ के महंत ओंकार दास ने कहा कि अदालत का फैसला सर्वोपरि व स्वागत योग्य है। अदालत ने माना कि वास्तव में जमीन हिन्दुओं की है, और भाईचारा भी कायम रहे इसलिए मुसलमानों को 5 एकड जमीन दे दी गई है। अब हम लोग मिल जुलकर श्री रामजी के भव्य मंदिर का निर्माण करेंगे और देश विदेश के लोग उनका दर्शन करेंगे।

भागवताचार्य आचार्य नवलेश दीक्षित ने कहा कि निर्णय बहुत अच्छा है। सभी को मानना चाहिए। शान्ति व सदभाव का वातावरण बना रहना चाहिए। निर्णय को पूरे देश को मानना चाहिए। सभी को स्वीकार करना चाहिए। शांति व सौहार्द के साथ अखंड भारत का निर्माण हो। गायत्री शक्ति पीठ के मुख्य व्यवस्थापक डा राम नारायण त्रिपाठी ने कहा कि राम सभी धर्मों के आदरणीय है। सर्वोच्य अदालत ने स्पष्ट तौर पर श्री राम जन्म भूमि को जहां हिन्दुओं का माना है, वहीं मुस्लिम समाज का आदर करते हुए उन्हें भी जमीन देने की बात कही है। अतः सभी को शान्ति व सदभाव के साथ रहना चाहिए। समाजसेवी पूर्व सभासद अरूण गुप्ता मुन्ना ने कहा कि फैसला दिल को खुश कर देने वाला है। सदभाव भी कायम रहे इसलिए मुसलमानों को भी जमीन दी गई है। चित्रकूट हमेशा से शान्ति व सदभाव का समर्थक रहा है।

अन्य खबर

चर्चित खबरें