< निर्णय को स्वीकार कर दें समझदारी का परिचय Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News @राजकुमार याज्ञिक, चित्"/>

निर्णय को स्वीकार कर दें समझदारी का परिचय

@राजकुमार याज्ञिक, चित्रकूट

बरावफात, आगामी निर्णय को लेकर पीस कमेटी की हुई बैठक

जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय व पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल की उपस्थिति में कोतवाली परिसर में नगर व ग्राम के सभी समुदायों के संभा्रत नागरिेकों के साथ पीस कमेटी की बैठक सम्पन्न हुई।

जिलाधिकारी ने कहा कि बारावफात व सर्वोच्च न्यायालय के आने वाले आदेश को मिलकर शांतिपूर्ण वातावरण में हर्षोल्लास के साथ कार्य करें। न्यायालय के आदेश को मानना होगा। सभी निर्णय का सम्मान करें। किसी के पक्ष विपक्ष पर आये पूरे धैर्य व संवेदनशीलता तथा स्थिरता के साथ कार्य करना है। यह आदर्श जनपद है। यहां पर सभी धर्म के लोग सभी त्यौहारों को भाईचारा के साथ मनाने है। यह समझदारी को दर्शाता है कि आपस में प्रेम व भाईचारा है। बैठक के निर्णय के आधार पर ही कार्यों का संचालन हुआ।

पुलिस विभाग द्वारा जो परिचय पत्र बनाये जाये वह सही व्यक्ति के बनाये उसका दुरूपयोग नहीं होना चाहिए। परोपकार करना हे तो दूसरों की मदद करे। बारावफात के दिन सभी अधिकारी कार्या के प्रति सजग रहे। अधिशाषी अभियंता विद्युत से कहा कि शहर में जहां पर विद्युत के तार लटके हुए हैं उनको तत्काल ठीक करायें। अवर अभियंता व उप खण्ड अधिकारी द्वारा जनता के फोन नहीं रिसीव किये जाते। यह स्थिति अत्यंत खेदजनक है।

पुलिस अधीक्षक ने कहा कि जो सुझाव दिये हैं उन पर कार्य हेेोगा। जनपद के इतिहास के बारे में बताया वह बड़ी खुशी की बात है। सभी लोग प्रशंसा के पात्र है। आपसी भाईचारा के साथ सभी धर्मों के त्यौहारों को मिलजुल कर मनायें। जुलुस जिस रूट से निकलता है वहीं से निकालें। सर्वोच्च न्यायालय में एक फैसला सुरक्षित रखा गया है जो एक सप्ताह में आ सकता है। संविधान के द्वारा गठित न्यायालय है उसमें किसी प्रकार का पक्षपात नहीं है।

पक्ष और विपक्ष के निर्णय को स्वीकार करें। सन् 1980 में मुरादाबाद में दंगा हुआ था उस समय में जो शामिल लोग थे वह आज 40 साल के बाद भी परेशान हैं। इस प्रकार की कोई घटना न हो समिति का गठन कर लें। परिचय पत्र उन्हींका बनेगा जो पुलिस का सहयोगी है। सोशल मीडिया पर भी विशेष ध्यान दिया जाये। कोई मैसेज आये तो उसे फारवर्ड न करें। संबंधित थाना को सूचना दें। अनर्गल मैसेज डालेगा तो उसके खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया जायेगा। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी जीपी सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक बलवंत चैधरी, व्यापार मण्डल के पंकज अग्रवाल, शानू गुप्ता, राहुल गुप्ता, रामबाबू, फराज खान आदि ने भी अपने-अपने विचार व्यक्त किये। 

 

अन्य खबर

चर्चित खबरें