< अधिकारियों के कामकाज का तरीका देख चढ़ा मण्डला आयुक्त का पारा Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News @विवेक चौरसिया,

अधिकारियों के कामकाज का तरीका देख चढ़ा मण्डला आयुक्त का पारा

@विवेक चौरसिया, महोबा 

कमिश्नर की क्लास में फेल हुए जिले के अफसर। सरकारी कार्यक्रमो के संचालन, विकास योजनाओं की प्रगति, निर्माण कार्यो में गुणवत्ता समेत सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं पर विभिन्न विभागों का यहाँ रिजल्ट एक बार फिर शून्य नंबर लाता दिख। भ्रष्टाचार और अनियमताओ से भरी अधिकारियों की लापरवाह कार्य शैली की भी पोल खुल गई। इसलिए वे न सिर्फ जमकर डांटे गए साथ ही कार्य मे सुधार न होने पर कठोर दंडात्मक कार्यवाही किये जाने की चेतावनी भी पाए।

शासकीय कार्यक्रमो की समीक्षा तथा विकास योजनाओं के स्थलीय निरीक्षण के लिए महोबा में दो दिवसीय प्रवास पर आए मंडल आयुक्त शरद कुमार सिंह ने यहां अधिकारियों की बिगड़ैल व मनमानी कार्यशैली देख हैरान रहे। जिला अस्पताल के निरीक्षण से शुरू हुए इस दौरे में आयुक्त को आरम्भ से अंत तक जिस प्रकार खामियां ही खामियां मिली उससे अंततः उनका पारा चढ़ ही गया। यही वजह रही कि दौरे के अंत मे आयोजित समीक्षा बैठक में वह अपनी नाराजगी ब्यक्त करने से नही चूके। जिले के कामचोर अधिकारियों पर जमकर बरसते हुए उन्होने चेतावनी दी कि एक माह के भीतर कार्यशैली में सुधार नही हुआ तो ठीक नही होगा। उनके खिलाफ निलंबन की कड़ी दंडात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

बीती 16 अक्टूबर को महोबा में कमिश्नर के दौरे की शुरुआत जिला अस्पताल से हुई। जहां मरीजो के हाथों में बाहरी दवाओं के मिले पर्चो ने उनका  पारा चढ़ा दिया। आयुक्त ने इस पर गहरी नाराजगी दिखाई तथा यहां तैनात चिकित्सको को जमकर लताड़ लगाई। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि वे अपनी हरकतों से बाज आएं तथा गरीब और कमजोर वर्ग के लोगो को अस्पताल में उपलब्ध दवाएं मुहैय्या कराए। लाड़पुर गांव में आयोजित जन-चौपाल में शिकायत कर्ताओं की लंबी लाइन देख आयुक्त के तेवर बिगड़ गए। उन्होंने यहां लोगो की समस्याओं को स्थानीय स्तर पर समय से हल करने की अफसरों को हिदायत दी। अन्ना पशुओं की समस्या के समाधान के लिए तैयार कराए जा रहे पशु आश्रय स्थलों के निर्माण में देरी होने पर निकायों के अधिशाषी अधिकारियों को उन्होंने आड़े हाथों लिया तथा कार्य शीघ्र पूरा कराए जाने के निर्देश दिए।

मंडल आयुक्त शरद कुमार सिंह की समीक्षा में जिले की मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 सुमन को गोल्डन कार्ड निर्माण का लक्ष्य पूरा न होने पर जमकर फटकार मिली। ग्रामीण अभियंत्रण सेवा के अधिशाषी अभियंता जावेद को सड़को का निर्माण समय से पूरा न होने पर डांटा गया। पुलिस और राजस्व विभाग में निचले स्तर पर भ्रष्टाचार की शिकायतें मिलने की बात कहते हुए आयुक्त ने इन महकमो के जिम्मेवारो को लगाम लगाने की हिदायत दी। फिलहाल मंडल आयुक्त श्री सिंह के दौरे से महोबा में अधिकारियों के कामकाज में कितना बदलाव होगा यह तो वक्त बताएगा। परंतु मीडिया के सामने उन्होंने जिस प्रकार सभी मुद्दों पर बेबाक तरीके से चर्चा की वह बेहद खास है। 

अन्य खबर

चर्चित खबरें