< पचनद की नदियों में बढ़ा पानी, कई गांवों में दहशत Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News जालौन,

बाढ़ का कहर थामे नहीं थ"/>

पचनद की नदियों में बढ़ा पानी, कई गांवों में दहशत

जालौन,

बाढ़ का कहर थामे नहीं थम रहा है। दर्जनों गांव इसकी चपेट में आ गए हैं। बाशिदों में हाय तौबा मची है। पिछले दो दिनों से लगातार पचनद की यमुना, क्वांरी, सिध, पहुज व चंबल अंगड़ाई ले रही हैं। अभी तक तो फसलें ही डूबकर नष्ट हुई थीं लेकिन अब लोगों के घरों में पानी घुसने से जानवरों के साथ साथ घर गृहस्थी की भी चिता सता रही है। चारों तरफ जल ही जल देखकर लोगों की रात दहशत के बीच जागते हुए कट रही है। बच्चों व महिलाओं में दहशत का माहौल है। बाढ़ से घिरे गांवों के लोग ऊंचे स्थानों की ओर कूच कर रहे हैं।

जलस्तर में तेजी से बढ़ोतरी हुई। ग्राम डिकौली जागीर व कुसेपुरा में घरों में पानी घुस गया। लोग घर गृहस्थी का सामान इधर उधर सुरक्षित करते रहे। जानवर खुले ही छोड़ दिए गए हैं ताकि जान बचा सकें। खाने पीने का सामान सुरक्षित किया जा रहा है। पूरा, महटौली, हिम्मतपुर, बेरा, रुदावली गांव भी खतरे में घिर गया है। यमुना नदी के किनारे बसे होने से बचाव का कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा है। जगम्मनपुर से कंजौसा जाने वाली सड़क पर पांच से सात फीट तक ऊपर पानी बह रहा है। जिससे आवागमन बिल्कुल ठप हो गया है। सभी रास्ते अवरुद्ध हो गए हैं। निनावली, सिद्धपुरा, कुसेपुरा, कदमपुरा, मिर्जापुरा, डिकौली, नरौल, राठौरनपुरा, जायघा, बुढ़ेरा, शिवगंज, मधेपुरा, हिम्मतपुर, गुढ़ा, बेरा, पुरा, महटौली, रुदावली, कंजौसा, भिटौरा सहित दो दर्जन गांवों में बाढ़ का कहर जारी है। स्कूल बंद, अस्पताल नहीं पहुंच सके कर्मचारी

बिलौड़, हुकुूमपुरा, जखेता, सुल्तानपुरा, डिकौली जागीर आदि सहित कई जगहों के स्कूल व अस्पताल में कर्मचारी नहीं पहुंच सके क्योंकि कोई आने जाने का साधन नही हुआ है। राठौरनपुरा ग्राम निवासी राजेश कुमार का घर अचानक भरभरा कर गिर गया। जिसमें रखी दो मोटरसाइकिलें दबकर चकनाचूर हो गईं। साथ में घर गृहस्थी का सारा सामान दब गया। लोगों द्वारा यही कहा जा रहा है कि मदद चाहिए लेकिन प्रशासन द्वारा अभी तक कोई इंतजाम नहीं किया गया है। तहसीलदार प्रेमनारायण प्रजापति ने निनावली, जायघा, पंचनदा, जुहीखा पुल, हिम्मतपुर तथा अन्य जगहों का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि बाढ़ से निपटने के सारे इंतजाम किए जा चुके हैं। जहां ट्रैक्टर की जरूरत होगी वहां पर ट्रैक्टर तथा नाव की जरूरत की जगह नाव की व्यवस्था की गई है। खाने पीने की दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। संबंधित लेखपालों को लगा दिया गया है।

अन्य खबर

चर्चित खबरें