< कृषि अधिकारियों का खरीफ फसलों पर प्रशिक्षण Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News @आस्था गुप्ता, पन्ना

कृषि अधिकारियों का खरीफ फसलों पर प्रशिक्षण

@आस्था गुप्ता, पन्ना

कृषि विज्ञान केन्द्र पन्ना द्वारा जिले के ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों हेतु प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। जिसमें कृषि अधिकारियों को खरीफ मौसम में सम सामयिकी कार्य एवं पौधा संरक्षण की जानकारी दी। ए0पी0 सुमन उपसंचालक कृषि पन्ना ने वर्तमान परिस्थितियों में अच्छे उत्पादन में पौध संरक्षण की भूमिका तथा प्रशिक्षण की महत्ता पर प्रकाश डाला।

कृषि विज्ञान केन्द्र, पन्ना के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डॉ0 आशीष त्रिपाठी, ने खरीफ मौसम की फसलों के रोग व कीटों की पहचान व नियंत्रण की जानकारी दी उन्होंने पीला मोजेक रोग, जो कि एक विषाणु जनित रोग है तथा सफेद मक्खी नामक रसचूसक कीट द्वारा फैलता है रोग के नियंत्रण हेतु रोगग्रस्त पौधों को खेत से निकालकर नष्ट करने तथा सफेद मक्खी के नियंत्रण हेतु थायोमेथाक्जाम 25 डब्लू.पी. अथवा इमिडाक्लोप्रिड 17.8 एस0एल0 अथवा ऐसिटामिप्रिड 20 एस0पी0 की 150 ग्राम प्रति हैक्टेयऱ के मान से छिड़काव की सलाह दी। डॉ0 आर0के0 जायसवाल ने धान उर्द के रोग नियंत्रण पर प्रकाश डाला।

उन्होंने उड़द में सरकोस्पोरा पर्ण दाग उक्त रोग नियंत्रण हेतु पूर्व मिश्रित कवकनाशी कार्बेन्डाजिम मैंकोजेब की 400 ग्राम मात्रा अथवा थियोफिनेट मिथाईल की 200 ग्राम मात्रा 200 लीटर पानी में घोलकर प्रति एकड़ के मान से छिड़काव की सलाह दी। डॉ0 रणविजय सिंह ने खरीफ मौसम की सब्जियों में सामयिक कार्य व अच्छे उत्पादन हेतु घुलनशील एन0पी0के0 18-18-18 के छिड़काव की सलाह दी। रितेश बागोरा ने पोषक तत्वों की कमी के लक्षण व उनकी कमी को दूर करने हेतु विभिन्न पोषक तत्वों को उपयोग की सलाह दी। कार्यक्रम में देशराज व हरिहर सिंह का विशेष सहयोग रहा। प्रशिक्षण कार्यक्रम में जिले के पांचों विकासखण्डों से 42 कृषि अधिकारियों 11 उन्नतशील कृषकों व कृषि महाविद्यालय टीकमगढ़ के 22 रावे छात्रों ने भाग लिया। 

 

 

 

 

अन्य खबर

चर्चित खबरें