गाजे-बाजे के साथ हुआ गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन

बांदा,

शहर में लगभग एक सैकड़ा गणेश प्रतिमाओं को गाजे-बाजे के साथ गुरुवार को केन नदी में विसर्जित कर दिया गया । इस दौरान बड़ी संख्या में लोग गणपति बप्पा मोरिया अगले बरस तू जल्दी आना, का उद्घोष करते हुए थिरक रहे थे। प्रतिमाओं को नम आंखों से विसर्जन किया गया।

शहर के विभिन्न मोहल्लों में अलग-अलग स्थानों में गणेश चतुर्थी को गणेश प्रतिमाएं रखी जाती हैं और 10 दिन तक लगातार पूजा अर्चना का सिलसिला चलता रहता है। इस बार भी नूतन बाल समाज में रखी गई गणेश प्रतिमा का सातवें दिन विसर्जन नवाब टैंक में किया गया था। इसके अलावा पांचवें, सातवे, तीसरे और दसवें दिन आधा सैकड़ा गणेश प्रतिमायें विसर्जित की गई थी लेकिन मुख्य आकर्षण गुरुवार को देखने को मिला। इन प्रतिमाओं को शहर के रामलीला मैदान से होते हुए बाकरगंज से निकाला गया। जहां से टोकन लेकर कार्यकर्ता नाचते हुए आगे केन नदी की ओर बढ़े, जुलूस पुलिस लाइन, क्योटरा चैराहे से होता हुआ। नाव घाट पहुंचा जहां प्रतिमाओं का बारी-बारी से विसर्जन किया गया।

इस दौरान कई संगठनों ने कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया। कई स्वयंसेवी संगठनों ने जलपान के स्टाल भी लगाए। इस बार जुलूस में महिलाओं ओर बच्चों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। नृत्य के दौरान अबीर, गुलाल उड़ाया गया। वहीं तलवारबाजी डांडिया आकर्षण का केंद्र बने रहे। इस दौरान किसी तरह की अप्रिय घटना न हो इसके लिए चप्पे-चप्पे में पुलिस बल को तैनात किया गया था। विसर्जन देर शाम तक होने की संभावना है।