< शरीर एक बीड़ा जैसा होता है - मनोचिकित्सक Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News बांदा,

जिला चिकित्सालय पुरुष&"/>

शरीर एक बीड़ा जैसा होता है - मनोचिकित्सक

बांदा,

जिला चिकित्सालय पुरुष बाँदा से डी.एम.एच.पी. की टीम द्वारा भागवत प्रसाद इण्टर कॉलेज में बच्चों को मानसिक रोग के विषय में बताया गया। मनोरोग चिकित्सक डॉ. हर दयाल ने बताया कि शरीर एक वीणा जैसा होता है। जो साम्य अवस्था मे ही बजता है। वैसे ही शरीर है जो साम्य अवस्था मे ही स्वस्थ रहता है। उन्होंने ने बताया कि मानसिक बीमारियों से बचने के लिए स्वयं के लिए व परिवार के लिए समय जरूर निकले।

साइकोलॉजिस्ट डॉ. रिजवाना हाशमी ने बताया कि बच्चों में गुस्सा, चिड़चिड़ापन, पढ़ाई में मन न लगना, मोबाइल का प्रयोग अधिक होना बढ़ता जा रहा है। जिससे कई मानसिक बिमारिया होती जा रही है। इसके लिए मोबाइल का समय से व आवश्यकता अनुसार करना चाहिए। मॉनिटरिंग ऑफिसर नरेन्द्र मिश्रा ने बच्चों को फ़ास्ट फूड छोड़ने की सलाह दी और बताया कि सुबह उठ कर योग करने से शारिरिक एवं मानसिक रूप से स्वस्थ रहने की सलाह दी। सी.आर.ए.अनुपम त्रिपाठी, अशोक कुमार ने पम्लेट बाट कर जागरूक किया। इण्टर कालेज प्रशासन एवं स्टाप का ने पूर्ण सहयोग किया।

अन्य खबर

चर्चित खबरें