< नसीर अहमद शिक्षक दिवस में दिल्ली सरकार द्वारा सम्मान Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News बांदा,

समाजसेवा व शिक्षा की अ"/>

नसीर अहमद शिक्षक दिवस में दिल्ली सरकार द्वारा सम्मान

बांदा,

समाजसेवा व शिक्षा की अलख जगाने वाले नसीर अहमद सिद्दकी को दिल्ली में गुरूवार को शिक्षक दिवस के मौके पर स्टेट टीचर एवार्ड-2010 से सम्मानित किया गया है। जिससे बांदा और बुन्देलखण्ड गौरवान्वित हुआ है। देश की राजधानी नई दिल्ली के त्यागराज स्पोर्ट्स काॅम्पलेक्स में शिक्षकों को स्टेट टीचर एवार्ड-2019 सम्मानित किया गया। एच.ओ.एस, टी.जी.टी, पी.जी.टी, स्पेशल कैटेगरी और तीनों नगर निगम निगम कैटेगरी के 87 शिक्षकों, प्रधानाचार्यों को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सम्मानित किया। इस अवसर पर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया, कस्तूरबा नगर के विधायक मदन लाल और  मुख्य सचिव, एन.सी.टी दिल्ली के विनय कुमार देव की मौजूदगी उत्साहवर्धक रही।

नगर निगम बाल विद्यालय के शिक्षक नसीर अहमद सिद्दीकी को जीरो संसाधन और न्यूनतम खर्चे के नवाचार द्वारा शिक्षण और सीखने की प्रक्रिया को रूचिकर और आनन्द दायक बनाने के लिए इस वर्ष पुरूस्कृत किया गया। इन्होने प्राथमिक शिक्षण में जटिलता से सरलता के सिद्धांत को बढाते हुये प्रार्थना स्थल पर ही प्राथमिक कक्षा के बच्चों को पुराने रद्दी अखबारों की हेड लाइंस को पढ़वाने की परम्परा ड़ाली। डोनेशन द्वारा हिन्दी की पुरानी यूज्ड पुस्तकों को अपनी पुस्तकालय में जमा करके उनके जरिये बच्चों में पढ़ने की रूचि विकसित की।

नतीजतन बच्चे चन्द्रयान, मच्छर जनित रोग, महापुरूषों का इतिहास, भूगोल, विग्यान में खासा ग्यान रखते है। पपेटरी मेथड, रोल प्ले और थियेटर इन एजुकेशन के जरिये बच्चों में गजब का आत्म विश्वास झलकता है। अपने आस-पास के प्राकृतिक वनों में नियमित शैक्षिक टूर और सांस्कृतिक मंत्रालय भारत सरकार द्वारा आयोजित कला, संस्कृति और हस्तकला प्रशिक्षण से बच्चों के प्रतिभा में खासा निखार आया है। नसीर अहमद सिद्दीकी, पत्रकारिता, उच्च शिक्षण, स्किल काउंसलिंग, सामाजिक संस्थाओं, सी.एस.आर, कोरपोरेट और थियेटर से जुड़े है। उन्होंने 100 निगम विद्यालयों को 200 बडे प्लास्टिक कंटेनर डस्टबिंस, 10 स्कूलों को वाटर कूलर मुहैय्या कराये और 2 विद्यालयों में आत्याधुनिक डिजिटल कम्प्यूटर लैब की स्थापना कराई।

दिल्ली सरकार के राजकीय प्रतिभा विकास विद्यालय, नवयुग विद्यालय, सर्वोदय विद्यालय, प्राईवेट विद्यालय और निगम विद्यालय के 60,000 शिक्षकों में से महज 87 शिक्षकों को एवार्ड से नवाजा गया। प्रत्येक एवार्डी शिक्षक को मेडल, शाल, प्रमाण-पत्र के अलावा 25,000 रूपये का चेक भी दिया गया।

सिद्दीकी बांदा जनपद के पुनाहुर गांव के निवासी है। पूर्व में गोविन्द बल्लभ पंतकृषि विश्वविद्यालय पंतनगर, उत्तराखण्ड के अलावा बी.एन.वी इंटर काॅलेज राठ (हमीरपुर) उत्तर प्रदेश, अखण्ड आदर्श विद्यालय पवई (राठ) हमीरपुर, प्रगति कोचिंग इंस्टीट्यूट गोहाण्ड (हमीरपुर), सेंट जोसेफ स्कूल महोबा और सेंट मैरी बांदा में भी अपनी सेवायें दे चुके है। भारत सरकार के श्रम रोजगार मांत्रालाय, बाल कल्याण मंत्रालय, एन.सी.ई.आर.टी, एस.सी.ई.आर.टी, कौशल विकास मंत्रालय आदि अनन्य सरकारी विभागों और 4 विश्वविद्यालयों में स्वयं सेवी रिसोर्स पर्सन है।

अन्य खबर

चर्चित खबरें