बारिश का पानी छानकर पी रहे बाशिदे

हमीरपुर, 

लम्बे समय से पानी के संकट से जूझ रहे कस्बे के कई मोहल्लों में तीन दिन से पेयजल मुहैया नहीं हो रहा है। वहीं कुछ लोग तो बारिश का पानी ड्रम में एकत्र कर उसे छान छान कर पी रहे हैं। इसके अलावा सबमर्सिबल का भी सहारा लिया जा रहा है। कस्बे में कई मोहल्ले पेयजल की समस्या से प्रभावित हैं। जिनमें कजियाना, मथुरा मंदिर क्षेत्र बनयोटा, नेशनल मार्ग, बाजार, गदाई तथा उपरौस व हैदरगंज का एक बड़ा भाग तथा मराठीपुरा मोहल्ले का एक भाग इस समय पेयजल संकट से जूझ रहा है। पानी मुहैया कराने की जिम्मेदारी जिस विभाग जल संस्थान के सुपुर्द है।

इस विभाग के कर्मचारियों को छह माह से वेतन ही नहीं मिला। जिसके चलते विभाग के पास हैंडपंप ठीक कराने का तक धन नहीं है। विभाग के नेशनल मार्ग के तीन नलकूप जल संस्थान की दो टंकियों में कुछ पानी मुहैया कराते रहे हैं। इससे पेयजल संकट वाले मोहल्लों में कुछ पानी मिल जाता था लेकिन बीते तीन दिनों से विभाग के नेशनल इंटर कॉलेज मार्ग के एक नलकूप का ट्रांसफार्मर जलने से यह ठप हो गया। जबकि एक अन्य नलकूप बेहद कम पानी दे रहा है।

जिससे संस्थान की पानी की टंकियों में पानी ही भरा जा सका। जल संस्थान के स्थानीय अधिकारियों ने बताया कि बिजली विभाग ने दो दिन बाद जले हुए ट्रांसफार्मर के स्थान पर दूसरा रखा है। जिससे पानी की स्थिति सुधर सकती है। जब तक यहां दो नये नलकूप नहीं लगाये जाते तब तक ऊंचाई वाले क्षेत्रों में पेयजल की स्थिति सुधरना मुश्किल है। कजियाना मोहल्ला निवासी इस्लाम खान ने बताया कि पहले तो 10 मिनट को नल आ जाते थे लेकिन अब तीन दिन से एक बूंद भी पानी नहीं आया। जिससे ड्रम में भरे गए पानी को छान कर ही वह गुजारा कर रहे हैं। जेई विषेश्वर नाथ ने बताया कि एक ट्रांसफार्मर जलने के कारण पानी की किल्लत हो गई थी। इसे आज ही बदला गया है। जल्द पानी की सप्लाई सुचारू हो जाएगी।