जिलाधिकारी मोनिका रानी ने  मानिकपुर तहसील के पाठा क्षेत्र के क"/>

जिलाधिकारी मोनिका रानी का पाठा में पेयजल व्यवस्था दुरुस्त करने हेतु तूफ़ानी दौरा, अधिकारियों मे मचा हड़कंप

जिलाधिकारी मोनिका रानी ने  मानिकपुर तहसील के पाठा क्षेत्र के कई गांवों का कल तूफ़ानी दौरा किया । पाठा में पेयजल व्यवस्था दुरुस्त करने हेतु कल अपने निरीक्षण के दौरान उन्होंने सुबह सुबह सर्वप्रथम मानिकपुर तहसील सभागार में अधिकारियों की बैठक ली । घण्टे भर चली इस बैठक में डीएम ने न्याय पंचायतवार अधिकारियों की सात टीमें गठित की । जिसमें न्याय पंचायत कर्का पडरिया में मुख्य विकास अधिकारी, तहसीलदार मानिकपुर, रामपुर कल्याणगढ़ में उप जिलाधिकारी मानिकपुर, अधिशाषी अभियंता सिंचाई, उमरी में अधिशाषी अभियंता लघु सिंचाई, परियोजना प्रबंधक जल निगम, ऊॅंचाडीह में नायब तहसीलदार मानिकपुर, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, सरैंया में जिला विकास अधिकारी, अधिशाषी अधिकारी नगर पंचायत मानिकपुर, रैपुरा में सहायक बेसिक शिक्षाधिकारी, बाल विकास परियोजना अधिकारी एवं न्याय पंचायत किहुंनिया में जिलाधिकारी, अधिशाषी अभियंता जल संस्थान, जल निगम ने क्षेत्रों का भ्रमण कर पेयजल समस्या, खाद्यान्न, चरही निर्माण, कूप ब्लास्ट, हैण्डपम्प, टैंकर, तालाब, अध्यापकों की उपस्थिति, पठन-पाठन की जानकारी, गेहूॅं क्रय केन्द्र, पशुओं का टीकाकरण आदि की जानकारी शाम तक प्रारूप बनाकर कैम्प कार्यालय में उपस्थित होने को कहा ।

इसके फ़ौरन बाद डीएम ने मानिकपुर नगर के आर्य नगर वार्ड का औचक निरीक्षण किया । जिसमें सबसे अधिक पानी की समस्या बतायी गई। उन्होंने जल संस्थान के अधिशाषी अभियंता कों निर्देश दिये कि इस क्षेत्र में जो दो पानी की टंकी बनायी गयी है उसमें जो भी कमियां हो उसको तत्काल 15 दिन के अंदर पूरा करें। ताकि यह टंकी पानी से भर जायें। समस्या दूर हो सके। उन्होंने अधिशाषी अधिकारी नगर पंचायत को भी निर्देश दिया कि जो भी समस्याएं नगर में हैं उन्हें जल्द से जल्द दूर किया जाये ।

इसके बाद जिलाधिकारी ने गाँवों का रुख किया जहाँ सबसे पहले वो किहुंनिया गईं और फिर अमचुर नेरूआ, डोड़ा माफी, टिकरिया, बम्हिया, इंटवा आदि गांवों मजरों का भ्रमण कर पेयजल की समस्या से निपटने के लिए को सम्बंधित अधिकारियों को निर्देशित कर बिगड़े हैंडपंपो को जल्द सुधारने के आदेश दिऐ। डी एम महोदय के निरिक्षण के दौरान सरकारी कर्मचारियों मे हड़कंप मचा हुआ था। सबसे ज्यादा कोटेदारों को डर सता रहा था कहीं महोदय हमसे न पूंछ-तांछ करें। क्षेत्र मे सबसे ज्यादा पानी की समस्या मिलने पर सम्बंधित अधिकारियों फटकार लगाते हुये खराब हैंडपंपो को जल्द दुरूस्त करने के आदेश दिए।  किहुंनिया ग्राम पंचायत के कोलकालोनी गांव मे पैदल चलकर गांव की हकीकत जानी लोगों की समस्याएं सुनते हुये यहां के लोगों की समस्याओं के जल्द निस्तारण हेतु आश्वासन दिया। वहीं अमचुर नेरूआ पंचायत के खदरा सोसायटी कोलान पहुंच कर सम्बन्धित ग्राम प्रधान को सबमर्सिबल डालने को कहा जिससे मवेशियों को पीने के लिए पानी मिल सके। साथ ही नई बस्ती मे बिजली नहीं है वहां बिजली पहुचाने को कहा। ज्यादा तर आदिवासी बाहुल्य गांवों का दौरा कर लोगों की समस्याएं सुन निस्तारण के आदेश दिए। साथ ही क्षेत्र के बिगड़े हैंडपंपो के सुधारने के सख्त आदेश दिया। वैसे तो आकस्मिक निरिक्षण के भय के चलते पेयजल बिगड़े हैंडपंप मे काफी सुधार हुआ है। निरीक्षण के भय के चलते प्रधान, सचिव रातो रात हैंडपंप दुरूस्त कराने मे जुटे हुये थे।

कुलमिलाकर जिलाधिकारी श्रीमती मोनिका रानी के इस तूफ़ानी ने यह संकेत दे दिए हैं कि सूबे की योगी सरकार बुन्देलखण्ड में पानी की समस्या को लेकर काफी संजीदा है । आपको बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुन्देलखण्ड में जल्द से जल्द पानी की समस्या खत्म करने का आदेश दिया था ।



चर्चित खबरें