वध के लिए प्रतिबंधित पशु की हत्या की

अराजकतत्वों ने माहौल बिगाड़ने की कोशिश में पहले वध के लिए प्रतिबंधित पशु की हत्या की, फिर उसका शव धर्मस्थल के पास फेंक दिया। इसकी जानकारी पर बजरंग दल कार्यकर्ता जुट गए और दूसरे पक्ष पर गंभीर आरोप लगाए। तनाव के हालात बनने पर एडीएम, एएसपी और सीओ भारी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और हालात पर काबू पाया। इलाके में फोर्स तैनात कर दी गई है। अधिकारियों ने तीन दिन में घटना के राजफाश का आश्वासन दिया है।

मोहल्ला मिर्जामंडी निवासी पप्पू यादव के बाड़े से रात पशु गायब हो गया। उसकी तलाश शुरू की तो सुबह दूसरे पक्ष के धर्मस्थल के पास उसका शव मिला। जानकारी पर बजरंग दल के नगर संयोजक दीपक शर्मा व हिदू जागरण मंच के नीलाभ शुक्ला कार्यकर्ताओं के साथ पहुंच गए और पुलिस को सूचना दी। आनन-फानन में कोतवाल सुधाकर मिश्रा ने पहुंचकर बजरंग दल कार्यकर्ताओं को समझाने का प्रयास किया कि पशु की हत्या बाहर करने के बाद शव धर्मस्थल के पास फेंका गया है।

इस पर हिदू संगठनों के कार्यकर्ता भड़कने लगे और नारेबाजी शुरू कर दी। तनाव पूर्ण हालात बनते देख एडीएम पीके सिंह, एएसपी डा. अवधेश सिंह, सीओ संजय कुमार शर्मा मौके पर पहुंचे और तीन दिन में घटना के राजफाश का आश्वासन देकर लोगों को शांत किया। कोतवाल सुधाकर मिश्रा ने बताया कि घटनास्थल के निरीक्षण में शव के पास ही पोटली में पशुओं का वध करने वाले हथियार भी मिले हैं। जांच की जा रही है।