< शिष्य को अंर्तज्ञान का बोध कराता है गुरु: नवलेश Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News गुरु पूर्णिमा पर भागवत पीठ समेत मठ-मंदिरों में शिष"/>

शिष्य को अंर्तज्ञान का बोध कराता है गुरु: नवलेश

गुरु पूर्णिमा पर भागवत पीठ समेत मठ-मंदिरों में शिष्यों की रही भीड़ : गुर्रुब्रह्मा, गुर्रुविष्णुः, गुर्रुदेवो महेश्वरः, गुरुः साक्षात् परम्ब्रह्म तस्मैश्री गुरुवे नमः के साथ शिष्यों ने गुरु की पूजा कर आशीर्वाद लिया। गुरु पूर्णिमा महोत्सव चित्रकूट के विभिन्न आश्रमों व पीठों में हषोल्लास वातावरण में समूचे दिन मनाया गया। इस अवसर पर देश के विभिन्न प्रांतों से आये शिष्यों ने अपने-अपने गुरुओं को ब्रह्मा, विष्णु, महेश से अधिक महत्व देते हुये मंत्रों से पूजन-अर्चन करने का क्रम चला। शिष्यों ने यथाशक्ति दान-दक्षिणा प्रदान की। गुरुओ ने शिष्यों को गुरु पूर्णिमा के सबसे महत्वपूर्ण क्षण में समस्त मानसिक तरंगों को चेलाओ में प्रतिष्ठित कर साधना पथ पर अग्रसर किया।

गुरु पूजा उत्सव के अवसर पर हजारों शिष्यों ने परिक्रमा मार्ग खोही स्थित भागवत पीठ में गुरु के रूप में अंर्तराष्ट्रीय भागवत प्रवक्ता नवलेश दीक्षित की गुर्रुब्रह्मा, गुर्रुविष्णुः, गुर्रुदेवो महेश्वरः, गुरुः साक्षात् परम्ब्रह्म तस्मैश्री गुरुवे नमः के मंत्र से पूजन-अर्चन व आरती उतार यथाशक्ति दक्षिणा प्रदान की। उन्होंने हजारों शिष्यों को बताया कि गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा भी कहा जाता है। इसी दिन वृहस्पति गुरु का जन्म भी हुआ था। सैकडों शिष्यों ने उनसे गुरु दक्षिणा ली थी।

शिष्यों को संबोधित करते हुये अंर्तराष्ट्रीय भागवत प्रवक्ता नवलेश दीक्षित ने गुरु और शिष्य के महत्व को बताते हुये कहा कि वास्तविक गुरु वही है जो अपने शिष्य के अंर्तज्ञान को उजागर कर सन्मार्ग पर चलने की शिक्षा दे। बताया कि गुरु-शिष्य के बीच किसी भी प्रकार का अंतर नहीं होना चाहिये। दोनो के बीच का रिश्ता एक होना चाहिये। उन्होंने कहा कि ‘गुरु बिन भवनिधि तरै न कोई, जो विरंच शंकर सम होई’।

जिस प्रकार मानव जीवन में प्रमुख त्योहारों का विशेष महत्व है उसी प्रकार गुरु पूर्णिमा के अवसर पर गुरु पूजा करना एक विशेष महत्व रखता है। गुरु वहीं है जो शिष्य को ऊर्जावान बनाकर अंदर फैले प्रदूषण को नियंत्रित कर सकारात्मकता का संचार करे। गुरु हमेशा सदप्रेम एवं करुणा से भरे होते हैं। वह शिष्य को अपनी ऊर्जा से भरपूर कर साधना की ओर अग्रसर करते हैं, लेकिन शिष्य भी अपार श्रद्धा एवं भक्ति के भाव में गुरु के प्रति समर्पित होकर अटूट आस्था से भरा हो।

दीक्षित ने बताया कि सद्गुरु चैसठ कलाओं से पूर्ण होता है। जबकि भगवान कृष्ण 16 कलाओं तथा भगवान राम 12 कलाओं से परिपूर्ण थे। इसी कारण उन्होंने भी अपने गुरुओं में जैसे वशिष्ठ को मत्था टेकते थे। हरि रूठे तो गुरु ठौर है, गुरु रूठे नहीं ठौर, करता करे न कर सके गुरु करे सो होय। इसी क्रम मे ही चित्रकूट के कामदनाथ के चारो मुखारबिन्दों में भी सैकड़ों शिष्यों ने गुरुओं की पूजा की। शिष्यों की सर्वाधिक भीड प्रकृति प्रदत्त कामदनाथ मंदिर में देखने को मिला।

इसी प्रकार भरत मंदिर के महंत दिव्यजीवन दास, निर्मोही अखाडा के ओकारदास, रामायणी कुटी रामहृदय दास, रघुवीर मंदिर, जानकीकुण्ड बडी गुफा, गायत्री शक्तिपीठ के व्यवस्थापक डा रामनरायण त्रिपाठी ने बताया कि गुरुक्रिया योग द्वारा शिष्य की समस्त कियाओ को जो जागृत करे वही है सद्गुरु। शिष्य के पूर्णतः प्राप्त करने तक अविरल गति से योग प्रेम की अपार शक्ति चलती रहे। यही गुरु-शिष्य को पढाकर जीवन पथ पर अग्रसर करता है। उन्होंने बताया कि जिज्ञासा, विव्हलता और आनंद की पराकाष्ठा ही शिष्य प्राप्त करते हैं। गुरु से जुडने पर शिष्य की चेतना में वह स्थापित हो जाते हैं।

तभी शिष्य में उसके हृदयमन में आनंद की धारा बहने लगती है। इस दौरान समस्त गुरुओं के आश्रमों में पूर्व से शिष्यों के ठहरने एवं भोजन प्रसाद आदि प्रबंध की गई थी। शिष्यों को भरपूर भोजन कराया। भण्डारे का आयोजन हुआ। जहां हजारों लोगों ने भरपेट भोजन किया। यथोक्त क्रम में ही सच्चा आश्रम शक्तिपीठ आनंदनी गुफा गंगाजी मार्ग कर्वी में गुरु पूर्णिमा महोत्सव के पूर्व गत दिवस झण्डा पूजन, अखण्ड कीर्तन का शुभारंभ किया गया। गुरु पूर्णिमा के दिन 11 बजे से आये शिष्यों ने षोडसोपचार पूजन किया। इस अवसर पर सच्चा आश्रम के प्रमुख संत ललित ब्रह्मचारी ने गुरु के महत्व की जानकारी देते हुये कहा कि गुरु कृपा जेहि नर पर कीन्ही, तिन्ह यह जुगत पिछानी। नानक लीन भयो गोविन्द में, ज्यो पानी संग पानी। शिष्यों को सच्चा संदेश देने के बाद भण्डारे प्रसाद का आयोजन किया गया।

 

अन्य खबर

चर्चित खबरें