क्या आतंकियो को महोबा से होती है फंडिंग

महोबा में आतंकवादियों को फंडिंग से जुड़ी एक शिकायत पर एटीएस टीम ने शहर के एक डॉक्टर से पूछताछ की। डॉक्टर से पूछताछ के बाद यह टीम एक ट्रांसपोर्टर से भी मिली। शहर के कुछ लोगों से डॉक्टर व ट्रांसपोर्टर के बारे में जानकारियां भी जुटाईं।

एटीएस की टीम कानपुर से महोबा पहुंची थी। टीम में शामिल दरोगा हसीना खातून ने डॉक्टर से करीब आधे घंटे बातचीत की। इसके बाद टीम एक ट्रांसपोर्टर के ऑफिस पहुंची। वहां भी लगभग बीस मिनट पूछताछ की। दोनों से पूछताछ और कुछ शहरियों से बातचीत कर टीम कानपुर लौट गई। 

पुलिस सूत्रों का कहना है कि एटीएस तक पहुंचे एक पत्र को आधार बनाकर यह पूछताछ की गई थी। पत्र में डॉक्टर व ट्रांसपोर्टर पर आंतकियों से जुड़ाव और उन्हें आर्थिक मदद देने का आरोप लगाया गया था। हालांकि, इस दौरान ऐसी कोई जानकारी एटीएस टीम के हाथ नहीं लगी, जिससे शिकायत को मजबूती मिलती।