< सड़कों पर अतिक्रमण, बेतरतीब पार्किंग से लोगों को हो रही परेशानी Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News शहर में इन दिनों अतिक्रमण चारों ओर फैला हुआ है। खासतौर से हाइवे "/>

सड़कों पर अतिक्रमण, बेतरतीब पार्किंग से लोगों को हो रही परेशानी

शहर में इन दिनों अतिक्रमण चारों ओर फैला हुआ है। खासतौर से हाइवे और बाजार के मुख्य मार्ग को अतिक्रमण ने सकरा कर दिया है। ऐसे में आवागमन मुश्किल हो गया है। छतरपुर शहर से होकर दो नेशनल हाइवे गुजरे हैं। पहला हाइवे रीवा - ग्वालियर क्रमांक 75 और दूसरा सागर-कानपुर हाइवे क्रमांक 86 पर पूरे दिन भारी वाहनों का आवागमन बना रहता है।

दोनों हाइवे पर महोबा रोड से जवाहर मार्ग होते हुए और नौगांव रोड से जवाहर मार्ग से एक तरफ सागर रोड पर और दूसरी ओर पन्ना रोड पर लोगों ने मनमर्जी से अतिक्रमण जमा लिया है। दुकानों के आगे हाइवे तक सामान फैला हुआ है और वाहनों की बेतरतीब पार्किंग से आवागमन में बाधा आ रही है। बात करें पार्किंग की तो इसके लिए प्रशासन ने कई बार योजना बनाई, लेकिन यह योजना क्रियांवित नहीं हो सकी।

इसके लिए बाजार में कई बार स्थान तक चिन्हित कर लिए गए पर सबकुछ केवल बैठकों तक सीमित रहा है। इसी कारण हाइवे पर स्थित बैंकों और शापिंग काम्पलेक्स के आगे, जिला अस्पताल के सामने तथा अन्य कई व्यवसायिक प्रतिष्ठानों के आगे वाहनों को बेतरतीब तरीके से खड़ा कर दिया जाता है।

सबसे अधिक गलत पार्किंग का नजारा छत्रसाल चौराहे पर हाऊसिंग बोर्ड की बिल्डिंग में खुले जांच केंद्रों के सामने देखने को मिलती है। यहां सुबह 10 बजे से रात करीब 8 बजे तक बेतरतीब तरीके से खड़े किए गए वाहनों के कारण हाइवे से गुजरने वाले वाहनों को होने वाली परेशानी देखी जा सकती है। इन वाहनों के बीच में खानपान के कई हाथठेले भी खड़े रहते हैं, जिससे बड़े वाहनों की बात तो दूर इनके बीच से स्कूटी और बाइक भी आसानी से नहीं निकल पाते हैं।

बाजार में तो पैदल चलना ही मुश्किल

छत्रसाल चौराहा से महल तिराहा, सिटी कोतवाली, गांधी चौक, हटवारा, मऊदरवाजा होते हुए बस स्टैंड पर पूरे बाजार क्षेत्र में दुकानों के आगे रास्ते को इस तरह कब्जाया गया है कि यहां पैदल चलना ही मुश्किल हो गया है। रही सही कसर बाजार में दोनों ओर से आने वाली कारों और टैक्सियों के द्वारा पूरी कर दी जाती है। रामचरित मानस मैदान के सामने रास्ते पर तो माल उतारने के लिए दिन में प्रवेश करने वाले ट्रकों के कारण रास्ता जाम बनी रहती है। इस मार्ग पर सुबह से लेकर शाम तक दिन में कई बार लोग जाम में फंसे रहते हैं।

बीच में ही दो पहिया वाहन खड़े कर दिए जाते हैं जिससे यहां आने वाली महिलाओं को निकलने में परेशानी होती है। उल्लेखनीय है कि बाजार में अतिक्रमण और सड़कों पर जाम की समस्या से आमजन और व्यापारी दोनों परेशान हैं। लेकिन जब जब यहां से अतिक्रमण हटाने की मुहिम शुरू होती है तो व्यापारी विरोध करके मुहिम को बंद करा देते हैं।

फुटपाथों पर लगी दुकानें, कई जगह लग गए बाजार

छत्रसाल चौराहे से एक तरफ आकाशवाणी तिराहे तक और दूसरी ओर पन्ना रोड तक सड़क चौड़ीकरण करके लोगों के सुरक्षित रूप से चलने और बैठने के लिए फुटपाथ बनाकर वहां कु र्सियां लगाई गई हैं। इन फुटपाथों पर खानपान के हाथठेले, जूते चप्पल, कपड़ों की दुकानों सजी हुई हैं। इन दुकानदारों ने यहां लगी कुर्सियों के आगे ही दुकानें लगाकर आमलोगों के लिए लगाई गई कुर्सियों को छीन लिया है।

ऐसे में लोगों को असुरक्षित रूप से हाइवे पर ही चलना पड़ता है। एक्सीलेंस स्कूल के बगल से सनसिटी की ओर जाने वाले मार्ग पर अवैध रूप से पूरा बाजार संचालित किया जा रहा है। पन्ना रोड पर हाइवे के किनारे दुकानें लगी हैं। पन्ना नाका क्षेत्र में अतिक्रमण के कारण आवागमन मुश्किल हो गया है। यह सब देखने वाला कोई नहीं है। लोगों का कहना है कि इस बारे में न तो नगर पालिका को चिंता है। यातायात पुलिस ध्यान नहीं देती है और न ही जिले के अन्य अधिकारी नगर को व्यविस्थत बनाने के बारे में सोच सके हैं।

इनका कहना है

वरिष्ठ अधिकारियों को नगर की समस्या के बारे में पूरी जानकारी है। अभी चुनाव से फ्री हुए हैं। जल्दी ही इस संबंध में एक बैठक करके पूरी रूपरेखा तैयार की जाएगी। उसके आधार पर हाइवे व अन्य सड़कों से अतिक्रमण हटाया जाएगा और पार्किंग की व्यवस्था की जाएगी।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें