15 दिवसीय कथक कार्यशाला का उद्घाटन सम्पन्न

संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार की सुप्रसिद्ध संस्था संगीत नाटक अकादमी के उपक्रम कथक केंद्र नई दिल्ली द्वारा सागर नगर में पहली बार शास्त्रीय नृत्य  कथक पर 15 दिवसीय कार्यशाला का आयोजन कला - संगीत को समर्पित नगर की सुप्रसिद्ध सांस्कृतिक संस्था "श्रुतिमुद्रा" के सहयोग से किया जा रहा है। कार्यशाला का उद्घाटन शुक्रवार को आदर्श संगीत महाविद्यालय के सभागार में आयोजित गरिमामय कार्यक्रम में प्रदर्शनकारी कला विभाग सागर विश्वविद्यालय के पूर्व अध्यक्ष सुप्रसिद्ध कथक गुरु पंडित प्रेम नारायण गुरु,दिल्ली कथक केंद्र द्वारा मनोनीत गुरु डॉ.शाम्भवी शुक्ला मिश्रा एवं श्रुतिमुद्रा समिति की सह-सचिव डॉ. कविता शुक्ला  द्वारा दीप-प्रज्ज्वलन तथा नृत्य के आदिदेव नटराज जी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कर किया गया।स्वतंत्रता संग्राम सेनानी संघ सागर के अध्यक्ष शिवशंकर केसरी, ललित कला मंडल सागर के कार्यकारिणी सदस्य डॉ.हर्ष मिश्र और डॉ. चंचला दवे ने अतिथि स्वागत किया।

कार्यक्रम की संचालिका श्रीमती अलका सिद्धार्थ शंकर शुक्ला ने कार्यशाला के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए कथक केंद्र दिल्ली के निदेशक श्री बी.बी. चुग द्वारा प्रेषित शुभकामना संदेश का वाचन किया।कार्यशाला संचालिका डॉ. शाम्भवी शुक्ला मिश्रा ने बताया कि कथक उत्तर भारत का सर्वाधिक समृद्ध एवं प्राचीन शास्त्रीय नृत्य है जो धार्मिकता, अंगसौष्ठव और स्वास्थ्यवर्धन के दृष्टिकोण से कई शताब्दियों से सतत विकसित होता आ रहा है।कार्यशाला में 6 वर्ष की वय के बालक-बालिकाओं से लेकर 55-60 वर्ष की आयु की महिलाओं की उपस्थिति उनके कथक के प्रति प्रेम और नृत्यकला के लिए समर्पण को अभिव्यक्त कर रही थी।प्रथम दिवस पर उपस्थित 44 प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षण संचालिका डॉ. शाम्भवी ने 3 घण्टे तक कथक की प्राथमिक तकनीक का अभ्यास कराया। उल्लेखनीय है कि 14 जून को कार्यशाला का समापन रवींद्र भवन में समारोहपूर्वक सम्पन्न होगा जिसमें कथक केंद्र संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार के निदेशक द्वारा प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र प्रदत्त किये जावेंगे साथ ही कथक नृत्य की प्रस्तुति भी इस अवसर पर की जावेगी।

इस अवसर पर शिवरतन यादव,प्रो.के.एस.पित्रे,प्रो.दिनेश अत्रि,श्यामलम् अध्यक्ष उमा कान्त मिश्र,ललित कला मंडल सागर के अध्यक्ष मुन्ना शुक्ला व सचिव सुभाष कंडया,आर.के.तिवारी,कपिल बैसाखिया,डॉ. साधना मिश्र,श्रीमती वर्षा तिवारी,डॉ.रचना तिवारी श्रीवास्तव,मुकेश तिवारी,मनोज तिवारी,नवलकुमार स्वर्णकार,डॉ.सिद्धार्थ शंकर शुक्ला,दामोदर चक्रवर्ती,अनिल चक्रवर्ती,यशवंत आठिया,सतीश रायकवार आदि उपस्थित थे।