डीएम एसपी ने केन नदी की जल धारा का निरंक्षण

जल संकट दूर करने के लिए आज प्रातः 05ः00 बजे जिलाधिकारी हीरा लाल, पुलिस अधीक्षक गणेश साहा एवं अन्य अधिकारियों की टीम सहित केन नदी के दुरेड़ी घाट पैदल चल कर गोयड़ीबाबा आदि क्षेत्रों का भ्रमण कर नदी की जलधारा का निरीक्षण किया।

दुरेड़ी घाट पर जलधारा रोकने पर जिलाधिकारी द्वारा नाराजगी व्यक्त करते हुए खनिज अधिकारी को निर्देश दिए कि जलधारा किसी भी दशा में अवरूद्ध न की जाए।जिलाधिकारी श्री हीरा लाल ने जगह-जगह पूरी टीम के साथ भ्रमण कर जल संकट दूर करने के उपाय तरासे।

उन्होंने अधिशाषी अभियन्ता जल संस्थान से जलापूर्ति सम्बन्धी जानकारी प्राप्त की। जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि निगरानी समितियां भ्रमण कर पानी रोकने के सम्बन्ध में जानकरी देते रहें। साथ ही जिलाधिकारी ने प्राकृतिक अवरोध को भी हटाए जाने के निर्देश दिए।

उन्होंने नदी किनारे बसे सब्जी वालों से बात कर बारी की सिंचाई पेटियाँ बनाकर करने को कहा। उन्होंने कहा कि जल बहाव किसी भी दशा में न रोका जाए। उपस्थित तहसीलदार को भी निर्देश दिए कि क्षेत्र के लेखपालों की ड्यूटी लगायी जाए ताकि वो भ्रमण करते रहें ताकि नदी में पानी का अवरोध न हो सके।

जिलाधिकारी ने खनिज अधिकारी को निर्देश दिए कि यदि पट्टा धारक अपने पट्टा क्षेत्र सीमा से अधिक खनन करता है तो उसके विरूद्ध कार्यवाही की जाए। उन्होंने कहा कि ओवर लोडिंग किसी भी दशा में बर्दाश्त नही होगी। अवैध खनन करने वालों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जाएगी। 

जिलाधिकारी के भ्रमण के दौरान उप जिलाधिकारी सदर संदीप कुमार, अधिशाषी अभियन्ता जल संस्थान, जल निगम केन कैनाल एवं परियोजना निदेशक आर0पी0मिश्रा, तहसीलदार अवधेश निगम, डा. सरीफ एवं अन्य अधिकारी गण साथ रहे।