< श्री राम महायज्ञ सतरवास में उमड़ा जन सैलाब Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News पूज्य रक्षा भारती ने पाँचवे दिन सुनाई अहिल्या उद्धार की"/>

श्री राम महायज्ञ सतरवास में उमड़ा जन सैलाब

पूज्य रक्षा भारती ने पाँचवे दिन सुनाई अहिल्या उद्धार की कथा विश्व भरण पोषण कर जोई। ताकर नाम भरत अस होइ

जिले के ग्राम सतरवास में श्री हनुमान गढ़ीजी मन्दिर पर नव कुण्डात्मक श्रीराम महायज्ञ का आयोजन श्री श्री 108 श्री देवेंद्रदास जी महाराज के सानिध्य में सम्पन्न हो रहा है। पंण्पंकज मोहन शास्त्री यज्ञाचार्य द्वारा वैदिक मन्तोच्चारन से यज्ञ हवन कार्यक्रम मन्दिर पर कार्यक्रम कराया जा रहा है।

इस दौरान पंण्वृन्दावन शास्त्री प्रदीप शास्त्रीए श्रीराम शास्त्रीए दीपक शास्त्री द्वारा विधिवत कार्यक्रम सम्पन्न कराया जा रहा है। शाम 4 बजे से रात्रि 8 बजे तक पूज्य रक्षा भारती जी द्वारा श्रीराम कथा का आयोजन हो रहा है। रात्रि 8ण्30 से 12 बजे तक रामलीला का भव्य शुभारम्भ हो रहा है।

कथा को अपनी वाणी द्वारा रसास्वादन कराते हुए पूज्य दीदी सुश्री रक्षाभारती ने भगवान श्रीराम एवं चारो भाइयो के नाम करण मुनि आगमन अहिल्या उद्धार की कथा सुनाई। गुरु वशिष्ठ जी ने भगवान एवम चारो भाइयो का नामांकरण किया।

महाराज दशरथ जी से जब मुनि विश्वामित्र जी ने जब भगवान श्री राम एवम लक्ष्मण जी  यज्ञ की रक्षा के लिए मांगा तो दशरथ जी ने कहा कि सब सुत मोहि प्रानन की नाही।राम देत नही बनत गुसाई।।

अंत गुरु जी के साथ दशरथ जी ने भगवान राम जी एवम लक्ष्मण जी को भेज दिया। गुरु जी ने सभी विद्याओ का ज्ञान करा दिया। गुरु गृह पढऩ गए रघुराई। अल्प काल विद्या सब पाई।। जो भी राक्षस आश्रम के पास आते थे। उनका उन्होंने एक बाण से ही उद्धार कर दिया।

अंत मे गुरुजी ने कहा कि राजा जनक जी के यहां धनुष यज्ञ का निमंत्रण आया हम सभी लोग धनुष यज्ञ देखने चलते है।रास्ते मे एक पत्थर सिला देखी। जब भगवान श्रीराम ने गुरु जी से पूछा तो उन्होंने कहा कि मुनि गौतम जी की पत्नी अहिल्या श्राप से सिला बन गयी। आपके चरणों से उद्धार होगा।

भगवान के चरण स्पर्श होते ही अहिल्या का उद्धार हो गया। रात्रि में अयोध्याजी से आई हुई राम लीला द्वारा केवट सम्वाद की कथा सुनाई। यज्ञ कार्यक्रम में पटसेमराए मिर्चवाराए खडेराए भैंसाईए बमरौलाए बिरधाए अण्डेलाए मेनवारए खितवांसए अनौराए तालगांव आदि गांव के लोग आ रहे है।

इस मौके पर गौरीशंकर पराशरए नोने राजाए चाली राजाए भरत सिंहए वीरेन्द्र सिंहए भगवान सिंह परमारए मजले राजाए गजेंद्र सिंहए हाकिम सिंहए राम सिंहए सन्तोष सिंहए प्रधान बहादुर सिंह बुन्देलाए भूपेंद्र सिंह तोमरए बॉबी राजा पटसेमराए भगवत सिंह बैसए राजेन्द्र सिंह राठौरए अयोध्या प्रसाद निरंजनए भगवत राजाए भरत राजाए जगदीश निरंजनए कोमल पटेलए धर्मए सन्तोष पटेलए तिलक सिंह पटेलए डाण्पराशरए विकास परासरए विपेंद्र सिंह परमारए राम परमारए हरेंद्र सिंहए सहदेव सिंहए शिवशंकर तिवारीए रामशंकर पराशर आदि का विशेष सहयोग रहा।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें