< अप्रिय घटना होने पर त्वरित 1090 पर शिकायत दर्ज करायें Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News जीआईसी जखौरा में शिक्षा का अधिकार विषय पर विधिक साक्षरता शिव"/>

अप्रिय घटना होने पर त्वरित 1090 पर शिकायत दर्ज करायें

जीआईसी जखौरा में शिक्षा का अधिकार विषय पर विधिक साक्षरता शिविर संपन्न

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव रवि कुमार गुप्त की अध्यक्षता में राजकीय इण्टर कॉलेज जखौरा में शिक्षा का अधिकार एवं अन्य विषयक एक विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। शिविर का शुभारंभ मां सरस्वती के चित्र पर दीप प्रज्ज्वलन एवं माल्यार्पण कर किया गया। इसके पश्चात इण्डियन स्टार कॉनवेन्ट स्कूलए जखौरा की छात्राओं द्वारा सरस्वती वंदना एवं मंच पर आसीन अतिथियों के सम्मान में स्वागत गीत प्रस्तुत किया गया।

कार्यक्रम में बताया जखौरा थाना प्रभारी ने यातायात नियमों के बारे में छात्र.छात्राओं को जानकारी दी। उन्होंने बताया कि हमें सडक़ के वायीं ओर चलना चाहिए। मोटरसाईकिल चलाते समय वाहन चालक सदैव हेलमेट का प्रयोग करें। हमारी सुरक्षा हमारे हाथों में है। बच्चे सडक़ पर झुण्ड बनाकर न चलें। उन्होंने कहा कि बालिकाओं के साथ यदि को छेडख़ानी की घटना होती है तो वह अपनी शिकायत महिला हैल्पलाइन नम्बर 1090 पर दर्ज करायें।

प्रधानाचार्य ने कहा कि आज के इस कार्यक्रम का उद्देश्य आप सभी को शिक्षा के अधिकार के तहत दिये गए अधिकारों के प्रति जागरुक करना है। उन्होंने बताया कि हमारा उद्देश्य बच्चों का शैक्षिक विकास करने के साथ.साथ वैयक्तिक विकास करना भी है। गुरु.शिष्य के सम्बंध में किसी प्रकार का कोई निजी स्वार्थ नहीं होता है। हमारे द्वारा किये गए प्रत्येक प्रयास का उद्देश्य आप सभी को शिक्षित बनाना है।

हमारे प्रयासों की सफलता बच्चों के शैक्षिक विकास पर निर्भर करती है। शिष्य की उन्नति से माता.पिता के बाद सबसे अधिक हर्ष शिक्षक को ही होता है। आज के समय में ग्रामीण क्षेत्रों के छात्र.छात्राएं देश.विदेश में अपनी सफलताएं दर्ज करा रहे हैं। यह ग्रामीण क्षेत्रों के लिए अत्यन्त गौरव की बात है।उन्होंने बताया कि शिक्षा का अर्थ होता है व्यवहार में परिवर्तन तथा इस परिवर्तन को परखने का दायित्व विद्यालय का होता है।

विद्यार्थी का एकमात्र लक्ष्य अध्ययन होना चाहिए। इसके पश्चात डॉ0 प्रदीप सिंह ने कहा कि स्वस्थ्य शरीर में ही स्वस्थ्य मस्तिष्क का वास होता है। हमारे समाज में बच्चों में अधिकांश बीमारियां खून की कमी के कारण होती हैं। अतरू आप सभी पोष्टिक भोजन ग्रहण करें एवं स्वच्छता के साथ रहें। स्वास्थ्य के प्रति सजग रहना प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी होती है। जिला विद्यालय निरीक्षक ने कहा कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य आपको शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 की जानकारी  प्रदान करना है। इस अधिनियम के तहत 06 से 14 वर्ष के बच्चों को निरूशुल्क एवं अनिवार्य रुप से शिक्षा प्रदान की जाती है।  

अन्य खबर

चर्चित खबरें