< ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान’’ को दें गति Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News  उपायुक्त कांगड़ा संदीप कुमार ने जिला में लिंगानुपात में सुधार"/>

‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान’’ को दें गति

 उपायुक्त कांगड़ा संदीप कुमार ने जिला में लिंगानुपात में सुधार और 0 से 6 वर्ष आयु वर्ग की शिशु मृत्युदर में कमी लाने के लक्ष्य को हासिल करने के लिए सभी की सक्रिय भागीदारी एवं समन्वित प्रयासों की आवश्यकता बताई। वे आज उपायुक्त कार्यालय के सभागार में ‘‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’’ योजना के कार्यान्वयन के संदर्भ में आयोजित जिला टास्क फोर्स की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।उन्होंने कहा कि बेटे और बेटियों के बीच भेदभाव की मानसिकता में सकारात्मक बदलाव लाना सभी की सामूहिक जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि जिला स्तर में लैंगिक असंतुलन को दूर करने के लिए पूर्ण प्रतिबद्धता से कार्य करने के साथ-साथ लड़कियों की शिक्षा, सुरक्षा, सम्मान और अधिकारों को लेकर भी जागरूकता पर बल दिया गया है।

उन्होंने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’’ अभियान के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए सभी सदस्यों से पूर्ण प्रतिबद्धता के साथ कार्य करने का आह्वान किया। उन्होंने अभियान की सफलता के लिए ग्राम स्तर पर लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता पर बल दिया। 
उन्होंने बताया कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान को जिला में कारगर तरीके से चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आंगनबाडी कार्यकर्ताओं के माध्यम से गांव-गांव तक बेटा-बेटी एक समान का संदेश पहुंचाया जा रहा है। इसके साथ ही बेटियों के जन्म पर जिला प्रशासन की ओर से बधाई संदेश भी दिए जा रहे हैं। उन्होनंे कहा कि इस अभियान की सुचारू मॉनिटरिंग भी की जा रही है।

उन्होंने जिले में पीसी एंड पीएनडीटी अधिनियम सहित अन्य सभी कानूनी प्रावधानों के प्रभावी कार्यान्वयन एवं लोगों की सक्रिय भागीदारी से अभियान को सफलतापूर्वक क्रियान्वित किए जाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि अगर जिला में सामान्य नागरिकों को यह पता चलता है कि किसी क्लिनिक में अल्ट्रासाउंड के माध्यम से लिंग निर्धारण के बारे में जानकारी दी जा रही है तो वे इसकी सूचना तुरन्त मुख्य चिकित्सा अधिकारी को दें ताकि उन पर नियमों के तहत कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जा सके। इस दौरान जिला कार्यक्रमअधिकारी रणजीत कुमार ने बैठक का संचालन किया तथा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत जिला में उठाए गए कदमों के बारे विस्तृत जानकारी दी। इस अवसर पर उपस्थित अधिकारियों ने लोगों की सोच में सकारात्मक बदलाव लाने तथा बेटा-बेटी में भेदभाव की मानसिकता को दूर करने हेतु अपने बहुमूल्य सुझाव दिए। इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त राघव शर्मा, मुख्य चिकित्सा अधिकारी गुरदर्शन गुप्ता सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।
 

अन्य खबर

चर्चित खबरें