?> जान बचाकर पत्थर खाते है हमारे सैनिक: पीएम मोदी बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़

जान बचाकर पत्थर खाते है हमारे सैनिक: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केंद्र सरकार के महत्वपूर्ण कार्यक्रमों को प्रभावी ढंग से क्रियान्वित करने के लिए आज सिविल सेवा दिवस पर विज्ञान भवन में नौकरशाहों को सम्मानित किया। इस दौरान पीएम ने नौकरशाहों को संबोधित करते हुए कहा कि नौकरशाहों की चुनौतियां पहले से बढ़ गई हैं। पीएम ने कहा कि अगर काम करने का तरीका बदलेंगे तो चुनौतियां अवसर में बदल जाएंगी।

 

मोदी ने कहा कि हमारे फौजी कश्मीर में बाढ़ आने पर लोगों की जान बचाते हैं, लोग उनके लिए तालियां बजाते हैं। लेकिन बाद में हमारे फौजी पत्थर भी खाते हैं। मोदी ने कहा कि सभी को आत्मचिंतन करना चाहिए, इसमें किसी प्रकार की कोताही नहीं बरतनी चाहिए। पीएम मोदी ने कहा कि 20 साल पहले और आज के हालात में काफी अंतर है। मोदी ने कहा कि अफसरों को शक्ति का एहसास होना चाहिए।

दो दिवसीय सिविल सेवा दिवस समारोह गुरुवार को शुरु हुआ था। प्रधानमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार प्राथमिक तौर पर पांच प्रमुख कार्यक्रमों प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना, ई-नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट और स्टैंडअप इंडिया, स्टार्टअप इंडिया के क्रियान्वयन में उत्कृष्टता पर आधारित हैं।

मोदी ने कहा कि तीन साल में अनुभव किया कि ऐसा कोई काम नहीं हुआ कि मैंने कुछ कहा हो और वह पूरा ना हुआ हो, हर काम को उसके नतीजे के साथ करें।

गंगा सफाई की बात हर कोई करता है, राजीव गांधी के जमाने से इसकी बात चल रही है। कई अफसर गंगा के किनारे पर रहते हैं, उन अफसरों को अपने गांवों में गंगा सफाई के लिए काम करना चाहिए। हमारे संकल्प का माइक्रो मैनेजमेंट करना काफी जरुरी।