< जिले के 471 गांवों में एक साथ लगी जल चौपाल, किया श्रमदान Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News

जिले के 471 गांवों में एक साथ लगी जल चौपाल, किया श्रमदान

भूजल बढ़ाओ, पेयजल बचाओ अभियान के अन्तर्गत गुरूवार को जनपद के सभी 471 गांवो में जल चौपाल लगाई, जहां ग्रामीणों को कुएं व हैंडपंप के  पानी और वर्षा के पानी का संचय कैस किया जाये? विस्तार से जानकारी दी गई। बाद में ग्रामीणों ने श्रमदान करके चिन्हित कुएं या हैंडपंपों के पास खंतियों की खुदाई की। 

निर्धारित किये गये कार्यक्रम के तहत सभी ग्राम पंचायतो को चयनित 10-15 जल मित्र व ग्रामीण एकत्र हुए उनकी मदद के लिये ग्राम प्रधान, रोजगार सेवक, आंगनबाड़ी, आशा कार्यकत्री व प्रशिक्षित ग्राम पंचायत सदस्य उपस्थित हुये और जल चौपाल लगाई गई।

जिसमें ग्रामीणों को गर्मियों में होने वाले पेयजल संकट और निरन्तर जल दोहन से जलस्तर गिरने की जानकारी दी और इसके बाद जल संचय के लिए हैंडपंप व कुआंे के पास खंतियां खोदने के लाभ बताये। खंतियां खोदने के बाद प्रत्येक कुएं का जीपीएस स्मार्ट फोन द्वारा रिकार्ड कर जल स्तर एवं टीडीएस मापा गया।

मुख्य कार्यक्रम ग्राम पंचायत हटेटीपुरवा में हुआ। जिसमें वाटर एड पुनीत श्रीवास्तव, सारथी डेवलपमेंट फाउण्डेशन से दयाली, रेखा व पंकज, फतेहपुर विकास मंच डा. देवेन्द्र श्रीवास्तव, अखिल भारतीय समाज सेवा संस्थान प्रशंसा गुप्ता, मनरेगा के पीडी आर.पी. मिश्रा, एडीओ बड़ोखर सुरेश कुमार धुरिया, सचिव प्रेमा सिंह, ग्राम प्रधान ओमप्रकाश इत्यादि एव बुंदेलखंड कनैक्ट की टीम भी मौजूद रही।

बताते चले कि कार्यक्रम की शुरूआत जिलाधिकारी बांदा ने गत 7 मार्च को ग्राम पंचायत कुरौली से स्वयं श्रमदान करके किया था आज जिले के सभी गांवों में यह अभियान चलाया गया। कार्यक्रम का समापन 26 मार्च को होगा। जिसमें जल पुरूष महेन्द्र मोदी, डीजीपी एसआईटी उ.प्र. व जिलाधिकारी द्वारा अभियान के दौरान उत्कृष्ट कार्य करने वालों को सम्मानित किया जायेगा।
 

About the Reporter

  • ,

अन्य खबर

चर्चित खबरें