?> जनपद में नही हो रहे जघन्य अपराध - खनिज माफियाओ के खिलाफ हो रही कार्यवाही बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़ बुन्देलखण्ड मे शिक्षा का अभाव होने से लोग गुमराह होकर स्थानीय र"/>

जनपद में नही हो रहे जघन्य अपराध - खनिज माफियाओ के खिलाफ हो रही कार्यवाही

बुन्देलखण्ड मे शिक्षा का अभाव होने से लोग गुमराह होकर स्थानीय राजनीति मे लिप्त रहकर बेरोजगार होने के कारण आर्थिक स्थिति अत्याधिक दयनीय होने से अपराधिक कार्यो मे लिप्त होते जा रहे है। शिक्षा और अहंकार से अपराधों मे कमी हो सकती है। यह बात जनपद के पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार त्रिपाठी ने बुन्देलखंड कनेक्ट परिचर्चा के दौरान कही है। उन्होने कहा कि अशिक्षा के कारण लोग गुमराह होकर हत्या जैसे जघन्य मामलों मे लिप्त हो जाते है।

उन्होने कहा कि यहां पर आपसी लडाई मे बहू बेटियों को आगे करने का रिवाज सबसे खराब है। उन्होने बताया कि शिक्षा की कमी, रोजगार न होना, आलसी जीवन के कारण लोग अपना विकास नही कर पा रहे है। यहां पर खेती बहुत है पर संसाधन बिजली, पानी का आभाव होने के कारण लोग एक फसल ही ले पाते है। जनपद में लूट, हत्या, डकैती जैसे अपराध नगण्य है। चोरी आपसी मारपीट व समपत्ति के विवाद होने से लोगो मे आपसी बुराई होने के कारण लोग अपना विकास नही कर पा रहे है। जो लोग रोजगार पाने के लिये जनपद से बाहर गये है। उनकी आर्थिक स्थिति मे सुधार तो हुआ है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जिले मे बेराजगारी, कुपोषण, लाचारी, गुटबाजी, भौतिक संसाधनो की कमी व रोजगार न होने से लोगो के अन्दर अपराधिक प्रवत्ति आ रही है। उनका मानना है कि खाली दिमाग शौतान का होता है।

बुन्देलखंड का अधिकांश व्यक्ति खासी समय गुजार कर अपना समय खराब करता है। और गांव मे जाति, धर्म के नाम पर कुछ राजनीतिक लोग आपस मे लडा कर अपना उल्लू सीधा करते है। जनपद में सीबीआई जांच के चलतें किसी भी प्रकार का बालू खनन नही हो रहा है। कही से भी कुछ भी सूचना मिलती है तो स्थानीय पुलिस व अधिकारी मौके मे पहुचकर कर सम्बंधित के खिलाफ कठोर कार्यवाही करेगे। जनपद मे खनिज माफियाओ व शामिल लोगो के खिलाफ गैंगस्टर जैसी कार्यवाही की जा रही है।

जनपद मे बडे अपराध तो नही  है लेकिन यदि कही कोई घटना होती है तो बार्डर सीमा की नाकाबंदी कराकर आरोपियो को गिरफ्तार किया जाता है। घटनाओ के खुलासे के लिये सर्विलाशं टीम, क्राईम बांच, मुखबर तंत्र के साथ ताल मेल कर अपराधियो की गिरफ्तारी की जा रही है। देश व प्रदेश में छेडखानी व बालात्कार को देखते हुये एंटीरोमियो का गठन किया गया है। 100 डायल पुलिस, स्थानीय पुलिस द्वारा जगह जगह पर चेकिंग कर वाहनो का चालान करने के साथ ही अराजक तत्वों मन चलों के खिलाफ कार्यवाही की जा रही है। एक प्रश्न के उत्तर मे उन्होने कहाकि यदि खनिज नीति निर्धारित की जाये ंतो विभाग को राजस्व का फायदा मिलेगा।

बुन्देलखंड सपनो का भारत कैसा हो के प्रश्न का जवाब देते हुये पुलिस अधीक्षक ने कहा कि हमीरपुर, बांदा, महोबा, चित्रकूट, ऊरई, जालौन, ललितपुर क्षेत्रों में पानी विघुत सिचाई के संसाधन मजबूत किये जाने की आवश्यकता है। उनका कहना है कि बुन्देलखंड मे एक ही फसल ली जा रही है। यहां पर ग्रोथ बढाने के लिये कौशल विकास योजना, लद्यु उद्योग नगरी के साथ, अच्छे शिक्षण तकनीति संसाधन जुटाये जाने की जरूरत है ताकि बच्चो को गुणात्मक, संस्कारिक, एंव तकनीकी शिक्षा मिल सके। विभागीय भ्रष्टाचार रोकने के लिये अधिकारियो व कर्मचारियो के खिलाफ कार्यवाही की जा रही है। एसपी का कहना है कि पुलिस के अलावा विकास, शिक्षा, विद्युत, चिकित्सा, बालविकास, भूमि संरक्षण, लद्यु सिचाई सहित तमाम विभागो मे बडे पैमाने पर भ्रष्टाचार पनप रहा है। जहां पर लोगो को जागरूक  करने की आवश्यकता है।

 



चर्चित खबरें