< मानव शरीर भी होता है समय का पाबंद  Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News शोधकर्ताओं की माने तो मानव शरीर समय का पाबंद होता है। सभी काम रो"/>

मानव शरीर भी होता है समय का पाबंद 

शोधकर्ताओं की माने तो मानव शरीर समय का पाबंद होता है। सभी काम रोजाना समय पर ना हों तो शरीर को गड़बड़ी का एहसास होने लगता है। बॉडी क्लॉक का बिगड़ना इसका ही नतीजा है। ऐसे में शरीर हमेशा गड़बड़ रहता है और बीमारियां हमें दबोच लेती हैं। इसलिए जरूरी है कि आप हमेशा तय वक्त पर ही खाएं और सोएं। गलत समय पर खाना खाने से कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं।

अगर आप सुबह का नाश्ता नहीं करते और इसकी बजाए किसी अन्य समय खाने को तरजीह देते हैं तो मोटापा बढ़ना तय है। कई शोधों के मुताबिक, जो लोग नाश्ता करते हैं वे कम मोटे होते हैं। उनका स्वास्थ्य बेहतर रहता है। उन्हें कोई गंभीर बीमारी भी नहीं होती। सही समय पर नाश्ता करने से हमारा शरीर सक्रिय रहता है। इसके अलावा लंच और डिनर का समय भी फिक्स होना चाहिए। जब हम समयानुसार खाना नहीं खाते तो कुछ भी खाने को तरजीह दे देते हैं। ऐसा करने से न सिर्फ कैलरी बढ़ती है बल्कि हम अस्वस्थ आहार खाने लगते हैं। 

कुछ लोग चिप्स या फ्राइड चीजों को ज्यादा खाने लगते हैं। ये हमारे शरीर को लाभ के बजाए नुकसान पहुंचाते हैं। इनसे त्वचा सम्बंधी बीमारियां भी हो सकती हैं। सही समय पर न खाने से थकान भी महसूस होती है। आलस और थकान किसी बीमारी से कम नहीं है। सही समय पर खाना और सही चीज खाना स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, लेकिन इनकी अनदेखी करने का मतलब है कि हम अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

असमय खाने से पेट खराब रहने की समस्या भी निरंतर बनी रहती है। सही समय पर खाने न खाने और सही समय पर नींद न लेने से पेट खराब होना लाजिमी है। अगर पेट से जुड़ी छिटपुट समस्या भी बनी रहती है तो यह बुरा संकेत है। ऐसा होने पर कोई गंभीर बीमारी भी आपको जकड़ सकती है। सही समय पर खाना न खाने से शरीर में कलेस्ट्रोल का स्तर बढ़ जाता है। इसका सबसे खराब प्रभाव दिल पर पड़ता है। अध्ययनों की मानें तो जो लोग नियमित 6 बार अलग-अलग समय पर आहार लेते हैं, वे बेहतर जिंदगी जीते हैं।  
 

अन्य खबर

चर्चित खबरें