< बुन्देलखण्ड चर्चा का दिखा असर, झाँसी में सीएम ने ली अधिकारियों की क्लाॅस Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News विशेष रिपोर्ट - अनुज हनुमत, आशीष उपाध्याय, सौरभ द्विवेदी, आकाश"/>

बुन्देलखण्ड चर्चा का दिखा असर, झाँसी में सीएम ने ली अधिकारियों की क्लाॅस

विशेष रिपोर्ट - अनुज हनुमत, आशीष उपाध्याय, सौरभ द्विवेदी, आकाश कुलश्रेष्ठ, भूपेन्द्र रायकवार

सूबे के मुख्यमंत्री आदित्य नाथ योगी एकबार फिर एक्शन में दिखे। आज सूबे के मुख्यमंत्री ने सीएम बनने के बाद पहली बार बुन्देलखण्ड का दौरा किया। मुख्यमंत्री ने बुन्देलखण्ड में पहली बार झाँसी जनपद का दौरा किया। झाँसी में उन्होंने अपने दौरो के दौरान जिला चिकित्सालय में निरीक्षण किया।

इसके बाद वह सीधे किसान मण्डी पहुँचे। वहां पर उन्होंने गेहूं खरीद की जानकारी ली। अधिकारियों ने खरीद केे संबध में मुख्यमंत्री को बताया। इसके बाद सीएम ने वही रखे गेहूं को देखा तथा किसानों से फसल के सम्बन्ध में जानकारी की। उसके बाद वह टकोरी तालाब का निरिक्षण करने पहुंचे, जहां अनियमितता देख जिलाधिकारी झाँसी को फटकार लगाई। साथ ही प्राथमिक विद्यालय का निरिक्षण भी किया। जिसमे उन्हें मिड-डे-मिल में गडबड़ी मिली।

इन सभी के बाद वह विकास भवन में समीक्षा बैठक करने पहुंचे जहाँ चित्रकूट धाम व झाँसी दोनों की मण्डलों के सभी उच्च अधिकारी मौजूद थे। समीक्षा बैठक में बुन्देलखण्ड न्यूज द्वारा चलाये जा रहें कार्यक्रम बुन्देलखण्ड की चर्चा का अधिक प्रभाव दिखा। उन्होंने अधिकारियों से बुन्देलखण्ड की हर समस्या के बारे में जानकारी ली। जिसका जिक्र बुन्देलखण्ड न्यूज के संवाददाता द्वारा बुन्देलखण्ड चर्चा पर लगातार किया जा रहा है।

बुन्देलखण्ड की चर्चा पर लोंगों ने अपना - अपना विचार रखा, किसानों ने अपनी समस्यां हमारे माध्यम से मुख्यमंत्री तक पहुंचाई। साथ ही हमने उन्हें गाँवों की वर्तमान स्थिति में बारे में भी सूचित किया। जिसका असर आज मुख्यमंत्री के झाँसी दौरे में दिखा।

उन्होंने समीक्षा बैठक में बुन्देलखण्ड मे सिंचाई ब्यवस्था पर रिपोर्ट मांगी । साथ ही उन्होंने कहा है कि अगर बुन्देलखण्ड में भूख से मौत होती है तो इसके लिए डीएम जिम्मेदार होंगे। सूखे से निपटने के लिए विस्तृत कार्ययोजना बनाने का आदेश भी दिया है। गर्मी में पानी की किल्लत नही होनी चाहिए। गरीबों को अनाज गांव गांव जा कर उपलब्ध कराए।

बिजली कटौती पर अधिकारी जिम्मेदार होंगे। थाने पर फरियादियों की फरियाद सूनी जाय। उन्होंने आगे डीएम व बीएसए अधिकारी को निर्देश दिया कि सरकारी स्कूलों का औचक निरक्षण करें। राशनकार्ड के लिए लोगों को परेशान ना होना पड़े ये ध्यान रखा जाय। आदि कई मुद्दों में अधिकारियों को इमानदारी से काम करन के लिए कहा।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें