?> राष्ट्रीय संगोष्ठी: आर्थिक विकास के परिदृष्य में लघु उद्योगो की भूमिका बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़ स्वामी विवेकानन्द विश्वविद्यालय के वाणिज्य विभाग द्वारा 18 अपै"/>

राष्ट्रीय संगोष्ठी: आर्थिक विकास के परिदृष्य में लघु उद्योगो की भूमिका

स्वामी विवेकानन्द विश्वविद्यालय के वाणिज्य विभाग द्वारा 18 अपै्रल 2017 को एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी के विषय “आर्थिक विकास के परिदृष्य में लघु उद्योगो की भूमिका पर विभिन्न लोगो ने अपने विचार रखे।

इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डाॅ अजय तिवारी ने आर्थिक विकेन्द्रीकरण पर बताते हुये लघु उद्योगों के महत्व पर प्रकाष डाला। विष्वविद्यालय के प्रबन्ध निदेषक डाॅ अनिल तिवारी ने कहा कि देष की आर्थिक समृद्धि के लिये उद्योग धन्धो का फलना फूलना आवष्यक है। क्योकि उद्योग धन्धो के विकास से जहाॅं रोजगाार के अवसर प्राप्त होते है वहीं आर्थिक प्रगति के द्धार भी खुलते है ।

इस अवसर पर बोलते हुये कुलपति प्रो एन के थापक ने कहा की लघु उद्योगो को ग्रामीण स्तर तक फैलने की आवष्यकता है और कृ्रषि आधारित लघु उद्योगो को बढावा मिलना चाहिये। मुख्य अतिथि के रूप में प्रो जे के जैन ने स्र्टाटअप इंडिया पर प्रकाष डालते हुये कहा कि लघु उद्योग हमारे देश की आर्थिक संरचना के आधार हैं डाॅ संजीव दुबे ने परिश्रम के महत्व को बताते हुये सरकार द्वारा उद्योगो  को सहायता संबधी जानकारी दी अन्य वक्ता में डाॅ अरविन्द जैन ने उद्योगों को मिलने वाली सब्सिडी के बारे में बताते हुए इन्हें रोजगारन्मुखी बताया स्वामी विवेकानन्द विश्वविद्यालय की वाणिज्य एवं प्रबंध की विभागाध्यक्ष की डाॅ सुनीता दीक्षित ने संगोष्ठी के औचित्य द्धारा लधु उद्योगों से महिला स्वावलंबन की बात कही।

अन्त में आभार लता सोनी ने दिया संगोष्ठी में विश्वविद्यालय के उपकुलपति डाॅ राजेष दुबे कुलसचिव के के श्रीवास्तव, प्रो एच एस बैस डाॅ मनीष मिश्रा डाॅ बद्रीविषाल तिवारी , डाॅ सचिन तिवारी डाॅ ममता सिहं, डाॅ.नीरज तोपखाने, डाॅ सुनीता जैन डाॅ संजयसिहं चैहान ,डाॅ सुखदेव बाजपेई डाॅ अजय व्यास एवं वाणिज्य विभाग के श्री अतुल तिवारी कु प्रीति कष्यप कु आयूषि खरे सहित बड़ी संख्या में छात्र छात्राओ ने सहभागिता की इस अवसर  पर विष्वविद्यालय के वाणिज्य विभाग द्वारा शोध-पत्रिका का प्रकाषन किया संगोष्ठी के दौरान मंच संचालन श्रीमती नेहा दुबे  ने किया।