< मीजल्स रूबेला वैक्सीन का शुभारंभ 15 जनवरी से Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News जिले में 15 जनवरी से प्रारंभ हो रहे मीजल्स रूबैल टीकाकरण अभियान क"/>

मीजल्स रूबेला वैक्सीन का शुभारंभ 15 जनवरी से

जिले में 15 जनवरी से प्रारंभ हो रहे मीजल्स रूबैल टीकाकरण अभियान के संबंध में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में अपर कलेक्टर सुश्री तन्वी हुड्डा की अध्यक्षता में मीडिया कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला में उन्होंने मीडिया कर्मियों को मीजल्स रूबैला अभियान के उद्देश्यों तथा क्रियान्वयन के संबंध में विस्तृत जानकारी देते हुए अभियान से जुड़ने की अपील की। उन्होंने समस्त अभिभावकों को अपने बच्चों को टीकाकरण अभियान में शामिल होने की अपील की। 

कार्यशाला में जिला टीकाकरण अधिकारी डा. रोशन ने बताया कि जिला सागर मीजल्स रूबेला वैक्सीन 9 माह से 15 वर्ष तक के बच्चों को शासकीय/अशासकीय विद्यालय में 15 से 31 जनवरी तक किया जाना है। जिसमें कक्षा नर्सरी से 10 वी तक के बच्चों को एम.आर.टीकाकरण किया जाना है। 1 फरवरी से 15 फरवरी 2019 तक आंगनवाड़ी केन्द्रो पर 9 माह से 5 वर्ष तक के बच्चों को एम.आर.टीकाकरण किया जावेगा। 5 वें सप्ताह मे छुटे हुये बच्चों का स्कूल, आंगनवाड़ी केन्द्र पर मॉपअप गतिविधि संचालित की जावेगी। अभियान के दौरान प्रतिदिवस एम.आर.का टीका समस्त शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओ में भी लगाया जावेगा।

मीजल्स एक वायरल बीमारी है जोकि 9 माह से 15 वर्ष के बच्चों मे अधिक पायी जाती है जिससे बच्चे में सर्दी जुकाम, खांसी, आंख आना, तेज बुखार एवं शरीर पर दाने आते है जिससे बच्चे को निमोनिया, दस्त, अंधत्व, बहरा पन, कुपोषण आदि जटिलतायें भी हो सकती है, गंभीर कुपोषित बच्चों की मृत्यु भी हो सकती है।

रूबेला भी एक वायरल बीमारी है जिसके मीजल्स जैसे ही लक्षण पाये जाते है परन्तु यह बीमारी मीजल्स से हल्की होती है। यह बीमारी यदि गर्भवती माता मे प्रथम तिमाही में होती है तो गर्भवस्थ शिशु में जन्मजात विकृति (कन्जनाइटल रूबेला सिन्ड्रोम) जैसे, मोतियाबिंद, बहरापन, जन्मजात हृदय रोग एवं गर्भपात की संभावना अधिक होती है। दोनो ही बीमारी मीजल्स रूबेला वैक्सीन से रोकी जा सकती है।             

यह टीका बच्चे के दांये भुजा के ऊपरी भाग चमड़ी के नीचे 9 से 12 माह मे एवं 16 से 24 माह मे दिया जाता है। मीजल्स रूबेला अभियान मे यह टीका सभी 9 माह से 15 वर्ष के सभी बच्चों को दिया जाना है चाहे उनको पूर्व मे भी मीजल्स का टीका लग चुका है या मीजल्स रूबेला बीमारी हुयी है तब भी यह टीका लगाया जाना है। यह टीका बच्चे को खाली पेट नही दिया जावेगा। यह टीका पूर्ण रूप से सुरक्षित है इसके कोई दुष्प्रभाव नही होते है।                                                      
मीजल्स रूबेला अभियान 28 राज्यो मे सम्पन्न हो चुका है जिसमें करीब 15 करोड़ बच्चों को एम.आर.का टीका लगाया गया है। 

मीजल्स रूबेला वैक्सीन अभियान मे जिले के 2357 प्रायमरी, 1251 मिडिल, 432 हाईस्कूल, 29 मदरसा कुल 4069 स्कूली मे मीजल्स रूबेला वैक्सीन अभियान चलाया जावेगा जिसमें जिले के 496081 स्कूली बच्चो एवं 276487 आंगनवाड़ी बच्चो का कुल बच्चे 772568 अभियान हेतु लक्षित किये गये है। 
    

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें