?> हुनर शहर का मोहताज नही बुन्देलखण्ड का No.1 न्यूज़ चैनल । बुन्देलखण्ड न्यूज़ कहते है पूत के पाँव पालने में ही दिख जाते है  दोस्तों आज में आपक"/>

हुनर शहर का मोहताज नही

कहते है पूत के पाँव पालने में ही दिख जाते है  दोस्तों आज में आपको एक ऐसे ही लड़के के बारे में बताने वाला हूँ  जिसकी उम्र सिर्फ 14 साल है और वह कक्षा 9 का छात्र है लेकिन उसके कारनामे वाकई में काबिले तारीफ़ है। इस लड़के के कार्य देखकर बड़े बड़े वैज्ञानिकों को चक्कर आ सकता है। आपको यकीन नही होगा की इस उम्र का कोई लड़का क्रेन मशीन , मूर्तियां बना सकता है। लेकिन आपको हमारी बात पर यकीन करना होगा क्योंकि ये सच है ।

जी हां तीर्थराज पुरी ,सीतापुर (चित्रकूट) का निवासी  अभिषेक गुप्ता जिसकी उम्र महज 14 वर्ष है उसने महज इतनी छोटी सी उम्र में क्रेन मशीन बनाई है जो देखने को में तो काफी छोटी है लेकिन ठीक वैसे ही कार्य करती है जैसे कोई बड़ी क्रेन मशीन। अभिषेक ने जो क्रेन मशीन बनाई है उसकी सबसे बड़ी खासियत ये है कि उसमे पार्ट्स के रूप में सभी दैनिक दिनचर्या के उपयोग की वस्तुएं हैं। चाहे वो मशीन में प्रेशर के लिए प्रयोग किया गया सीरेंज हो या पहियों में लगाया गया रबर का पट्टा। अभिषेक की बनाई क्रेन मशीन हूबहू वैसे ही कार्य करती है जैसे एक बडी मशीन। अभिषेक की मानें तो वह घण्टे भर में ही ऐसी मशीन दोबारा बना सकता है। आगे भविष्य में अभिषेक ड्रोन बनाना चाहता है और वो भी आम दैनिक कार्यो के उपयोग में आने वाली वस्तुएं से।

                                                                                                           

अभिषेक के घर की माली हालत सही नही है इसलिए उसके भविष्य का क्या होगा ये किसी को पता नही। अभिषेक के पिता गयाराम गुप्ता चाय की दुकान चलाते हैं और इसी से घर का खर्चा भी चलता है। इसी वर्ष अभिषेक कालेज में एडमिशन लेगा। लेकिन बड़ा प्रश्न ये है कि आखिर अभिषेक के आगे के भविष्य का क्या होगा ? क्योंकि अगर अभिषेक को आगे सही मार्गदर्शन और सहयोग नही मिला तो हम एक वैज्ञानिक को खो देंगे। ऐसा भी नही है कि अभिषेक के सपोर्ट में कोई हाथ आगे नही आ रहा। सीतापुर वार्ड से सभासद व वरिष्ठ समाजसेवी बृजेंद्र शुक्ला ऐसे ही व्यक्ति हैं। बृजेंद्र शुक्ला बताते हैं कि अभिषेक का हुनर देखकर वो भी हैरत में हैं और वो अभिषेक का पूरा सपोर्ट करेंगे । लेकिन प्रशासन को भी ऐसे हुनर का ध्यान करना चाहिए।