< दस्यु गौरी यादव गैंग का सदस्य गिरफ्तार Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News अभियुक्त के पिता की ददुवा गैंग ने हत्या की थी

"/>

दस्यु गौरी यादव गैंग का सदस्य गिरफ्तार

अभियुक्त के पिता की ददुवा गैंग ने हत्या की थी

डकैतो के विरूद्ध चलाये जा रहे अभियान  के तहत स्वाट टीम ने बदौसा थाना क्षेत्र में दस्यु गौरी यादव गैंग के सक्रिय सदस्य को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया। अभियुक्त के पिता की दस्यु ददुआ गैंग द्वारा हत्या की गई थी। जिसका बदला लेने के लिये वह हथियार उठाने में मजबूर हुआ था।

इस डकैत ने न सिर्फ एक व्यक्ति की हत्या की बल्कि प्रेमिका के रूठ कर जाने पर उसके भाई का अपहरण कर लिया था। घटना की जानकारी देते हुये पुलिस अधीक्षक बांदा एस आनन्द ने बताया कि स्वाट टीम  के प्रभारी संतोष कुमार सिंह  अपराध शाखा के दरोगा राजीव कुमार और स्वाट टीम के आरक्षी लालजी तिवारी, शिवानन्द, रमेश और अपराध शाखा के आरक्षी अश्विनी बदौसा थाना क्षेत्र में सक्रिय गेैंगों के सम्बंध में  सूचना संकलित  कर रहे थ,े तभी मुखबिर ने सूचना दी कि रैपुरा थाना चित्रकूट का रहने वाला एक व्यक्ति जो विधायक के नाम से जाना जाता है।

करीब दो माह पहले उसने एक व्यक्ति की थाना मऊ क्षेत्र जनपद चित्रकूट के जगधर नाला में हत्या कर दी थी, और अपना जुर्म छिपाने के लिये यह अफवाह फैला दिया, कि पुरस्कार घोषित अपराधी छोटू कोल मारा गया। मुखबिर ने बताया कि अभियुक्त विधायक आज चित्रकूट की  तरफ से आकर दतौरा की तरफ जायेगा।

इस सूचना पर स्वाट प्रभारी संतोष कुमार के नेतृत्व में दो टीमें बनाकर दतौरा जाने वाले मार्ग पर घेराबंदी की गई। उसके निकलने पर अभियुक्त को  पकड़ने का प्रयास किया लेकिन अभियुक्त ने जान से मारने की नियत से पुलिस पार्टी पर फायर किया फिर भी स्वाट टीम प्रभारी ने अपनी जान की परवाह न करते हुये सोमवार को शाम को लगभग 7 बजे उसे पकड़ लिया।

उसके कब्जे से एक तमंचा भी बरामद हुआ। पूंछने पर उसने अपना नाम विनय कुमार उर्फ विधायक पुत्र दयाशंकर शुक्ला निवासी ग्राम दैवरा थाना रैपुरा चित्रकूट बताया। अभियुक्त से जब विस्तृृत पूंछतांछ की गई तो उसने बताया कि 22 जुलाई 2018 को रात के 12 बजे के आसपास सुल्तान उर्फ अनिल नाम के व्यक्ति की मैने गोली मारकर हत्या की थी जो मूल रूप से हरियाणा का रहने वाला था और जमुना प्रसाद उर्फ बोस पुत्र रामबालक लोध निवासी बरेठी जनपद चित्रकूट के यहां  रहता था।

सुल्तान की हत्या मैने इसलिये की थी क्यों कि जमुना प्रसाद के संपर्क ददुआ गैंग से थे। सुल्तान के आने पर मुझे शंका थी, कहीं जमुना सुल्तान के माध्यम से मुझ पर हमला न करा दे। क्योंकि जमुना मुझसे रंजिश रखता था। भियुक्त ने यह भी बताया कि मैने 4 वर्ष पूर्व रामफल प्रजापति उर्फ बच्चा पुत्र चुनुआ निवासी दोसनखेड़ा जनपद चित्रकूट की दोनाली बंदूक छीन ली थी और दस्यु गौरी यादव गैंग में शामिल होे गया था। उसने यह भी बताया कि 4-5 माह पूर्व अपनी प्रेमिका खुशबू के दूसरे के साथ चले जाने पर मैने खुशबू के भाई पुरषोत्तम  का अपहरण कर लिया था तथा पांच दिन बाद प्रेमिका के वापस आने पर उसके भाई को छोड़ दिया था।

पुलिस अधीक्षक ने यह भी बताया कि अभियुक्त के पिता दयाशंकर शुक्ला की 1987 में ददुआ व उसके गैंग के हुबलाल, लाला, सीताराम, व ददुआ गैंेग के शार्प शूटर राधे व अन्य डकैतो द्वारा मिल कर की गई थी।
 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें