< बच्चों को जागरुक करने का समाजसेवियों ने लिया संकल्प Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News पटाखों से दूषित होता है हमारा पर्यावरण

बच्चों को जागरुक करने का समाजसेवियों ने लिया संकल्प

पटाखों से दूषित होता है हमारा पर्यावरण

ललितपुर। सर्वोदय अहिंसा अभियान व करुणा इंटरनेशनल चेन्नई के तत्वावधान में चलाये जा रहे अभियान के अन्तर्गत प्रशांति विद्यामंदिर में एक बैठक के दौरान समाज सेवियों व शिक्षकों ने पटाखों से हो रही हानि व पर्यावरण को प्रदूषित करने वाले पदार्थों के बारे में बच्चों को जागरुक करने का संकल्प लिया। इस दौरान जयशंकर प्रसाद द्विवेदी ने बताया  कि पटाखों की ध्वनि से हजारों लाखों जीवों की हिंसा भी हो रही है।

पटाखों से हानि सौ प्रतिशत व लाभ एक प्रतिशत है।उन्होंने बताया  कि पटाखों से होने वाले दुष्प्रभाव से हमारे जीव जंतुओं व पर्यावरण व ग्लोबल वार्मिंग को भी बहुत बडा खतरा है।डां0 सुनील संचय ने बताया कि सर्वोदय अहिंसा अभियान जयपुर द्वारा प्रत्येक वर्ष पटाखों को न फोडने के प्रति अभियान चलाया जाता है कि बच्चें जागरुक हों और वह लोगों में भी जागरुकता फैलाकर कि हमारे पर्यावरण संरक्षण में लोग अपनी भूमिका निभा सके।

करुणा इंटरनेशनल के राष्ट्रीय प्रचारक अजित जैन जलज ने कहा कि बच्चों को पालीथिन के संबंध में भी उन्होंने बताया कि पालीथिन हमारे पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रही है।जिसे खाकर गौमाता भी खत्म हो रही है। हमें पालीथिन की जगह कपडे के थैलें का उपयोग बाजार जाते समय सब्जी या सामान खरीदते समय ले जायें तो पालीथिन की उपयोगिता भी नहीं रहेगी और हमारा पर्यावरण भी सुरक्षित रहेगा।

पुष्पेंद्र जैन ने बताया कि सर्वोदय अहिंसा अभियान व करुणा इंटरनेशनल चेन्नई का मुख्य उद्देश्य है कि बच्चों में विद्यार्थी जीवन से ही उनके मन में पर्यावरण संरक्षण व जीवदया की भावना जागृत हो सके इसी उद्देश्य को लेकर यह अभियान चलाया जा रहा है।बच्चें ही मन के सच्चे होते हैं उनके अंदर जैसी भावना को जागृत किया जाये वह वैसा ही सीखता है।करुणा केंद्र ललितपुर के अध्यक्ष सुधाकर तिवारी ने कहा कि सर्वोदय अहिंसा अभियान द्वारा एक चित्रकला प्रतियोगिता आयोजित की जाती है जिसमें हजारों बच्चे प्रतिभाग करते हैं।चयनित बच्चों को पुरूस्कृत भी किया जाता है।

इसके अलावा बच्चों से शपथ पत्र भरवाये जाते हैं और जो बच्चे जीवरक्षा व पर्यावरण संरक्षण की शपथ लेते हैं व अपने दस अन्य साथियों को भी संकल्प दिलाते हैं उन्हें विशेष रुप से सम्मानित भी किया जाता है।हम दीपावली के महापर्व पर स्वयं की रक्षा करें व औरों के साथ-साथ जीव जंतुओं की भी रक्षा करें।

क्योंकि पशु-पक्षी भी संदेश देते हैं कि हम तो पशु -पक्षी होकर भी मनोरंजन के लिए किसी भी प्राणी को नहीं मारते हैं।लेकिन मनुष्य क्यों दूसरों की हिंसा करता है।अक्षय अलया ने कहा कि यदि हमें पर्यावरण व अरबों रूपये की वर्वादी को रोकना है तो हमें दीपावली पर्व पर पटाखों को नहीं फोडना है।

जिससे हमारा ग्लोबल वार्मिंग भी दूषित होने से बच जायेगा।कोई भी जनहानि भी न हो।क्योंकि कोई भी धर्म नहीं कहता है कि दूसरों को पीडा पहुंचाना।अत: हम संकल्पित होकर इस अभियान में अपनी महती भूमिका निभाने का संकल्प लें। इस दौरान जयशंकर प्रसाद द्विवेदी, सांई ज्योति संस्था सचिव अजय श्रीवास्तव, गोविंद व्यास, केपी पांडे, आलोक रिछारिया, मानव ऑर्गेनाईजेशन अध्यक्ष पर्यावरणविद पुष्पेंद्र सिंह चौहान एड., एड.स्वतंत्र व्यास, धु्रव साहू, अक्षय अलया, डा.सुनील संचय, शीलचंद्र शास्त्री, पुष्पेंद्र जैन, रामबाबू राजपूत मौजूद रहे।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें