< मृत्युभोज के स्थान पर श्रृद्धांजलि सभा पुण्य कार्य : राज्यमंत्री Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News 11 हजार गौशाला को दान और 5 फलदार वृक्ष सबसे उत्तम कर्म : एसड"/>

मृत्युभोज के स्थान पर श्रृद्धांजलि सभा पुण्य कार्य : राज्यमंत्री

11 हजार गौशाला को दान और 5 फलदार वृक्ष सबसे उत्तम कर्म : एसडीएम

ललितपुर। समाज मे व्याप्त समाजिक कुरीतियों के उन्मूलन के क्रम में कुर्मी समाज की पहल पर ग्राम सिमिरिया निवासी काशीराम पटेल (चाली पूर्व प्रधान)के छोटे सुपुत्र भगतराज (काजू) के दुर्घटना में अल्पायु में निधन होने पर मृतकभोज के स्थान पर 5 फलदार औषधी, वृक्ष ओर 11 हजार रुपये गौशाला कल्यानपुरा ललितपुर को नगद दान देकर श्रृद्धाजंलि सभा का आयोजन किया गया। 

श्रम एवं सेवायोजन मंत्री मनोहरलाल पंथ ने कहा कि परिवार मे अल्पायु में निधन होना बहुत ही कष्टकारी होता हैं और ऐसे में भोजन करना कराना अमानवीय कृत्य होता हैं। मृत्युभोज के स्थान पर श्रृद्धांजलि सभा करना पवित्र कर्म हैं जिसे प्रगतिशील समाज को आगे आकर स्वीकार करना चाहिए। एसडीएम धीरेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि वही समाज व राष्ट्र उन्नति कर सकता है जो समय के साथ परिवर्तन बदलाव करता हैं।

आज इस परिवार द्वारा स्व.भगतराज की स्मृति को बनाये रखने के लिए गाय सम्बद्र्धधन हेतु गौशाला को दान, वृक्षारोपण करके समाज को एक नई दिशा देने का कार्य किया गया जो अनुकरणीय हैं। आर्य समाज के प्रधान मुनि पुरुषोत्तम वानप्रस्थ ने कहा कि मृत्युभोज शास्त्रोक्त नही हैं,क्योकि वैदिक धर्मानुसार अंत्येष्टि ही अंतिम संस्कार होता है उसके बाद आत्मा की शांति के नाम पर तेरह दिनों तक मनमानी क्रियाएं अवैदिक है।

समाजसेवी डा.पूरन सिंह निरजंन व हरप्रसाद प्रजापति ने कहा कि हम सभी को अपने आने बाली पीढ़ी को शिक्षा की नही सुशिक्षा देने की आवश्यकता हैं। संचालन करते हुए शिक्षक लखनलाल आर्य ने कहा कि मृत्युभोज के स्थान पर श्रद्धांजलि सभा समाज व राष्ट्र की उन्नति में सहायक है जिसको हम सभी को आगे आकर समाज मे लागू करने की महती आवश्यकता है।

श्रीराम पटैरिया, कमलापति रिछारिया व रामसेवक गुप्ता ने संयुक्त रूप से कहा कि मृत्युभोज एक ऐसी सामाजिक बुराई जो शोक संतृप्त परिवार को दुगनी कष्टकारी साबित होती हैं जिसे हम सभी को मिलकर समाप्त करने की आवश्यकता है। सपा पूर्व जिलाध्यक्ष आल्हा प्रसाद निरजंन व राघवेंद्र सिंह ने कहा कि मृत्युभोज में आने बाले खर्च को बच्चों की शिक्षा व स्वास्थ्य में व्यय करना समाज व राष्ट्र के लिए हितकारी हैं।

शिक्षक राजपाल यादव फौजी व युवा जिलाध्यक्ष यादव महासभा आधार सिंह यादव ने कहा कि मृत्युभोज उन्मूलन करते हुए अपनी आने बाली पीढ़ी को संस्कारित सुशिक्षित करते हुए जुआ,शराब,नशे की लत से छुड़ाना होगा। कीरत सेन, धु्रव साहू व जमुना नामदेव ने कहा कि जीवित माता पिता ही पितर कहलाते हैं जिनकी हमें जीवित रहने तक सेवा करना ही सच्चा श्राद्ध हैं।

जिला पंचायत सदस्य प्रभु गन्धर्व, समाजसेवी दिलीप रजक, बाला प्रसाद ने कहा कि हम सभी को सामाजिक समरसता हेतु मृत्युभोज उन्मूलन की मानवीय पहल को बढ़ावा देना होगा। इस अवसर राजेन्द्र सिंह निरजंन, देशराज निरजंन, अमृतलाल निरंजन, सीताराम, कपूर पटेल, सुजान पटेल, सविता कटियार, सुखराम पटेल, विश्वनाथ पटेल, पृथ्वी पटेल, बिहारी पटेल, भवानी पटेल, जनन्नाथ पटेल, सोहनलाल पटेल, दरयाव पटेल, शिवचरण पटेल, राजाराम पटेल, रणवीर पटेल, हाकिम पटेल, डा.बद्री पटेल, चतुर्भुज पटेल, तिलक पटेल, कैलाश पटेल, दयाराम सेन सहित सैकड़ों ग्रामीण उपस्थित रहें।

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें