< रामलीला मैदान में तीसरे दिन रहा श्रीरामलीला का मंचन Hindi News - Breaking News, Latest News in Hindi, हिंदी में समाचार, Samachar - Bundelkhand News श्रीराम-लक्ष्मण में युद्ध कर आश्रम को असुरों के आक्रमण से बच"/>

रामलीला मैदान में तीसरे दिन रहा श्रीरामलीला का मंचन

श्रीराम-लक्ष्मण में युद्ध कर आश्रम को असुरों के आक्रमण से बचाया

श्रीनृसिंह रामलीला महोत्सव समिति के तत्वाधान में तालाबपुरा स्थित रामलीला मैदान मेंं रामलीला मंचन का भव्य आयोजन किया जा रहा है। रामलीला मंचन के तीसरे दिन ताडक़ा वध, नगर अवलोकन एवं पुष्प वाटिका की लीला का आयोजन किया गया। सर्वप्रथम श्रीगणेशजी महाराज की आरती व कोरस गीतों से रामलीला मंचन की शुरूआत की गयी। प्रथम दृश्य में ऋषि विश्वामित्र राक्षसों के उपद्रव के कारण आश्रम में यज्ञ नहीं कर पा रहे थे।

आश्रमवासियों की रक्षा और निर्विघन यज्ञ करने में सहायता के लिए वह राजा दशरथ के पास पहुंचे। जहां उन्होंने राजा से राम और लक्ष्मण को सहायता के लिए भेजने का आह्वान किया। यह सुनकर राजा दशरथ ने दोनों राजकुमारों को आश्रम की राक्षसों से रक्षा के लिए पहुंचाने का आश्वासन देते हैं और साथ भेज देते हैं। आश्रम में यज्ञ के समय राक्षसों का फिर से आक्रमण होता है। आक्रमण होते ही दोनों राजकुमार भगवान श्रीराम व भाई लक्ष्मण असुरों पर टूट पड़ते हैं और अंत में राक्षस पराजित होकर वहां से चले जाते हैं। वहीं दूसरे दृश्य में ऋषि विश्वामित्र को जनकपुर में राजकुमारी सीता के स्वयंवर का समाचार प्राप्त होता है। यही पर लीला को विराम दिया जाता है।

इस दौरान मुख्य संरक्षक भगवत नारायण अग्रवाल, अध्यक्ष नरेन्द्र कड़ंकी, वरिष्ठ उपा. धर्मेंद्र सिंह यादव, उपा.संजय डयोढिय़ा, पुष्पेन्द्र राजपूत, गजेन्द्र सिंह बुन्देला, संतोष साहू, महामंत्री प्रभाकर शर्मा, कोषा.अखिलेश पाठक, मंत्री अजय प्रताप सिंह तोमर, चन्द्रशेखर राठौर, प्रदीप शर्मा, विनोद निरंजन, गिरीश पाठक, प्रियदर्शी चौबे, रवि तिवारी, शीतल प्रसाद रावत, संयोजक रामगोपाल नामदेव, सह संयोजक कन्हैया नामदेव, निर्देशक जगदीश सुड़ेले, जगदीश पाठक शास्त्री, सह निर्देशक कृष्णकान्त तिवारी, मंच प्रभारी पन्नालाल साहू, मीडिया प्रभारी अमित लखेरा, देवेन्द्र साहू, पंकज रायकवार आदि मौजूद रहे।
 

About the Reporter

अन्य खबर

चर्चित खबरें